CAA: कई राज्‍यों के विरोध के चलते नागरिकता देने की प्रक्रिया ऑनलाइन कर सकती है सरकार

Danish khan editor kranti news

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के समर्थन और विरोध में लगातार देश में बहस जारी है. कई राज्‍यों ने जहां इसका समर्थन किया है वहीं कई गैर-भाजपा शासित राज्‍यों ने इसका विरोध किया है.

नई दिल्‍ली: नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के समर्थन और विरोध में लगातार देश में बहस जारी है. कई राज्‍यों ने जहां इसका समर्थन किया है, वहीं कई गैर-भाजपा शासित राज्‍यों ने इसका विरोध किया है. उन्‍होंने इस मुद्दे पर केंद्र सरकार को सहयोग देने से भी इनकार किया है. ऐसे में सूत्रों के मुताबिक नागरिकता देने की प्रक्रिया केंद्र सरकार ऑनलाइन करने पर विचार कर रही है. गृह मंत्रालय के एक सूत्र के मुताबिक इससे सीएए के तहत नागरिकता के लिए ऑनलाइन आवेदन किया जा सकेगा और इस प्रक्रिया में राज्‍यों के सहयोग की जरूरत नहीं होगी.

इस बीच सीएए का विरोध करने वाले राज्‍यों की फेहरिस्‍त में कल केरल भी शामिल हो गया है. मंगलवार को केरल विधानसभा में सीएए के खिलाफ प्रतिद्वंद्वी एकजुट दिखाई दिए. पारंपरिक रूप से राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) की अगुवाई वाले वाम मोर्चा और कांग्रेस की अगुवाई वाले संयुक्त लोकतांत्रिक मोर्चा(यूडीएफ) ने केरल विधानसभा में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) को वापस लेने की मांग वाला एक प्रस्ताव पारित करने के लिए हाथ मिला लिया. इस मौके पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एकमात्र विधायक ओ.राजगोपाल ने प्रस्ताव का विरोध किया. सीएए पर चर्चा के लिए विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया था. केरल के 140 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा का सिर्फ एक विधायक है.

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल