जब तक फिट टीम में रहेंगे’सुनील छेत्री कहीं नहीं जाएंगे,

भारत की फुटबॉल टीम के हेड कोच आइगोर स्टीमैक ने कहा कि फीफा 2022 के विश्व कप क्वॉलिफायर्स में पिछले दो मैचों में गलत समय पर शीर्ष खिलाड़ियों को चोट के कारण टीम अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाई। भारत की टीम ओमान से उसके घर में 0-1 से हारने के बाद फीफा 2022 के विश्व कप क्वॉलिफायर्स के तीसरे दौर में स्थान पाने की होड़ से लगभग बाहर हो चुकी है।स्टीमैक ने कहा, ‘हमारी भारतीय टीम की पिछले दो मैचों में हार बेशक निराशाजनक है लेकिन इससे हमारा खुद पर विश्वास और भरोसा कतई कम नहीं हुआ। प्रणय हलदर, राहुल भिके और आदिल खान इन मैचों के दौरान चोट के चलते बाहर होना हमारी मुश्किलें बढ़ा गया। इनको चोट का असर में ओमान और अफगानिस्तान के खिलाफ इन मैचों में हमारी टीम के प्रदर्शन पर पड़ा। विदेश में स्थितियां भी हमारे लिए मुफीद नहीं थीं। जहां तक भारत के स्टार स्ट्राइकर सुनील छेत्री के हाल ही में गोल नहीं करने की बात है तो इस बाबत मैं यह साफ कर देना चाहता हूं कि वह कहीं नहीं जा रहे। सुनील छेत्री जांचे परखे स्ट्राइकर हैं वह जब तक फिट रहेंगे भारतीय टीम में रहेंगे। वह अभी भी गोल करने के मौके बना रहे हैं और अभी लंबे समय तक भारतीय टीम में बने रहने का दम रखते हैं। हां, यह जरूर है कि मैं मनवीर सिंह और लेन जैसे नवोदित स्ट्राइकरों को तराशने के साथ तैयार करने पर पूरी तवज्जो जारी रखूंगा।’

स्टीमैक ने क्रान्ति न्यूज से बात करते हुए बताया कि भारतीय टीम अपने विश्व कप क्वॉलिफायर्स मैच में क्यों कम गोल कर रही तो उन्होंने पलट कर सवाल करते हुए कहा, ‘क्या आप मुझे बता सकते हैं कि भारत किसी भी क्लब में खेलने वाला भारत का पासपोर्टधारी कौन से स्ट्राइकर गोल कर रहे है? जब आपका एक भी स्ट्राइकर घरेलू लीग में गोल नहीं कर रहा तो फिर आप यह क्यों उम्मीद कर रहे हैं कि हम अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर गोल करेंगे। मैं खिलाडियों के साथ दिहाड़ी आधार पर नहीं बल्कि उनसे मैच से पांच दिन तक मेहनत करता हूं। हमारी टीम के लिए एक अच्छी बात हम गोल करने के मौके बना रहे हैं। हमारी मौजूदा टीम में अपनी पूर्ववर्ती टीमसे इस लिहाज से अलग है कि अब हमारी टीम किसी भी प्रतिद्वंद्वी से नहीं डरती। अब हमारी टीम में किसी भी टीम के खिलाफ खेलने उससे जीतने का माद्दा है।’

भारत ने फिलहाल विश्व कप क्वॉलिफायर्स लगातार तीन मैच ड्रॉ खेले। भारत के क्वॉलिफायर्स दूसरे दौर में पांच मैचों से तीन अंक है और ग्रुप ई में चौथे स्थान पर है। भारत को क्वॉलिफायर्स में अभी तीन मैच और खेलने हैं और इनमें से दो मैच अपने घर में -अफगानिस्तान और कतर के खिलाफ और एक बांग्लादेश के खिलाफ उसके घर में जाकर खेलना है। भारत यदि विश्व कप कवॉलिफायर्स 2022 के ये बाकी तीनों मैच भी जीतता है तो उसका क्वॉलिफाई करना अगर मगर के फेर में फंसा रहेगा। यह 2022 के विश्व कप के साथ 2023 के एशिया कप का भी क्वॉलिफायर्स है। भारत इसमें यदि तीसरा स्थान भी पाता है तो वह एशिया कप के लिए क्वॉलिफाई कर लेगा।2018 के विश्व कप क्वॉलिफायर्स से स्टीमैक ने विश्व कप के मौजूदा क्वॉलिफायर्स  अभियान की तुलना करते हुए कहा, ‘पिछले क्वॉलिफायर्स में भारत अपने सभी पांचों मैच हार गया था। मेरे कार्यकाल में भारतीय टीम ने अब तक बेहतर प्रदर्शन करते हुए पांच में तीन मैच ड्रॉ खेले और दो हार हैं। हमें अभी तीन और मैच खेलने हैं और हम वह हासिल करने की ओर है, जिसका हमने वादा किया था। वह वादा यह था कि हम 2023 के एशियाई कप के लिए क्वॉलिफाई करेंगे। उम्मीदें ज्यादा होंगी। अगले यानी 2026 के विश्व कप क्वॉलिफायर्स के लिए टीम को बेहतर ढंग से तैयार करना है।’

उन्होंने कहा, ‘मैं आई लीग में खेल रहे खिलाडियों के प्रदर्शन पर करीब से निगाह रखूंगा। आई लीग में खेलने वाले खिलाडियों के लिए भी भारतीय टीम में जगह का पूरा मौका है। अब यह इसमें खेलने वाले खिलाडियों पर निर्भर है वे कैसा खेलते हैं। मैं इन सभी खिलाडियों को अपना पूरा समर्थन जारी रखूंगा।’

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल