उद्धव ठाकरे ने विधायकों से कहा, शिवसेना के नेतृत्व में सरकार बनाने की प्रक्रिया अंतिम चरण में

हाइलाइट्स

  • महाराष्ट्र में शुरू हो गई है कांग्रेस, शिवसेना और NCP की निर्णायक बैठक
  • इससे पहले घटनाक्रम की जानकारी देने के लिए उद्धव ने विधायकों से की मुलाकात
  • उद्धव ने कहा, शिवसेना के नेतृत्व में बनेगी सरकार, प्रक्रिया अंतिम चरण में
  • इस बीच तीन दलों के गठबंधन का मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया है

मुंबई
महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर राजनीतिक सरगर्मी बढ़ गई है। माना जा रहा है कि कुछ देर में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी की निर्णायक बैठक के बाद एक महीने से जारी अनिश्चिचितता का दौर खत्म हो सकता है। इससे पहले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अपनी पार्टी के विधायकों से मुलाकात की। यह वार्ता अहम थी क्योंकि दिल्ली में कांग्रेस और एनसीपी की बैठकों के बाद उनसे फाइनल चर्चा करने से पहले शिवसेना अपना रुख विधायकों से शेयर करना चाहती थी। यहां उद्धव ने अपने विधायकों से साफ कहा कि राज्य में उनकी पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार बनने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। शिवसेना विधायक भास्कर जाधव ने बताया कि ठाकरे ने सरकार गठन की प्रक्रिया और दिल्ली में कांग्रेस-NCP नेताओं के बीच बैठकों के बारे में विधायकों को विस्तार से जानकारी दी।

उद्धव को CM देखना चाहते हैं विधायक
जाधव ने कहा, ‘उद्धव ने हमसे मुलाकात की और कहा कि शिवसेना की अगुआई वाली सरकार गठन की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। विधायकों ने राज्य में नई सरकार के गठन के लिए कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के साथ गठजोड़ करने की पार्टी के प्रयासों से पूरी तरह सहमति जताई है।’ उन्होंने कहा कि विधायक चाहते हैं कि ठाकरे ही मुख्यमंत्री बनें।

उन्होंने कहा, ‘हम चाहते हैं कि उद्धवजी मुख्यमंत्री बनें। लेकिन अंतिम फैसला उन्हीं को लेना है और यह हम सब पर बाध्यकारी होगा।’ जाधव के मुताबिक ठाकरे ने इन अटकलों को खारिज कर दिया है कि बीजेपी उनसे संपर्क में है और शिवसेना को मुख्यमंत्री पद की पेशकश की है। उन्होंने शिवसेना प्रमुख के हवाले से कहा, ‘आज (शुक्रवार) तक, मुझे बीजेपी नेतृत्व से कोई फोन कॉल नहीं आया है। यह कुछ और नहीं बल्कि शिवसेना की छवि धूमिल करने की एक साजिश है।’

पढ़ें,BJP के झूठ से छोड़ा 25 साल पुराना साथ: उद्धव

सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया मामला
इस बीच, महाराष्ट्र में तीन दलों के सरकार बनाने की दिशा में आगे बढ़ने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका डाली गई है। याचिका में अपील की गई है कि सुप्रीम कोर्ट गवर्नर को यह निर्देश दे कि वह जनादेश के खिलाफ कांग्रेस और एनसीपी को सरकार बनाने का न्योता न दें।

मुंबई में ही डटे हैं सेना के विधायक
ठाकरे ने विधायकों को मुंबई में एक साथ रहने को कहा है क्योंकि किसी भी वक्त उनकी जरूरत पड़ सकती है। शिवसेना के विधायक प्रकाश सुर्वे ने पत्रकारों से कहा कि दो-तीन दिनों में सरकार का गठन हो जाएगा और अगले मुख्यमंत्री शिवसेना से होंगे। उन्होंने कहा, ‘उद्धवजी किसानों की दशा को लेकर चिंतित हैं।’ उधर, शिवसेना के विधायक सुनील प्रभु ने कहा कि पार्टी के सभी विधायकों को एक साथ रहने को कहा गया है जबकि एक अन्य विधायक उदय सामंत ने कहा कि शिवसेना विधायकों को कोई भी (राजनीतिक दल) अपने पाले में नहीं कर सकता।

पढ़ें,शिवसेना-NCP-कांग्रेस गठबंधन, SC में याचिका

सामंत ने कहा, ‘तेजी से बदलते राजनीतिक घटनाक्रम के चलते हम मुंबई में एकसाथ हैं।’ शिवसेना विधायक प्रताप सरनाइक ने कहा कि राज्य में जल्द ही शिवसेना के मुख्यमंत्री वाली सरकार होगी। उन्होंने आगे कहा, ‘हम चाहते हैं कि उद्धवजी मुख्यमंत्री बनें और हमने उनके समक्ष अपनी मांगें रखी हैं।’ शिवसेना, NCP और कांग्रेस नेताओं की बैठक शुरू हो गई है, जिसके बाद तीनों पार्टियों द्वारा महाराष्ट्र में नई सरकार बनाने के लिये दावा पेश करने की उम्मीद है।
गौरतलब है कि राज्य में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव हुआ था। चुनाव परिणाम 24 अक्टूबर को घोषित किए गए थे। जब किसी पार्टी या चुनाव पूर्व बनाए गए गठबंधन ने सरकार गठन के लिए दावा पेश नहीं किया, तो 12 नवंबर को राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया।

Translate »
क्रान्ति न्यूज लाइव - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल