स्कूल छात्राओं से छेड़छाड़ मामले में नया मोड़

गंगानगर – रायसिंहनगर के 22 पीटीडी सरकारी स्कूल में छात्राओं से छेड़छाड़ मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। संयुक्त निदेशक की जांच में सामने आया है कि शिक्षक छात्राओं काे स्कूल के समय और छुट्टी के बाद व पहले पाेर्न फिल्में और फाेटाेज दिखाते थे। इसके बाद छात्राओं से छेड़छाड़ करते थे। बड़ी बात यह रही कि ग्रामीणों ने 26 जनवरी काे यह बात प्रधानाचार्य साेहनलाल डागला को भी बताई, लेकिन उन्होंने न तो खुद कार्रवाई की और न ही इसकी शिकायत किसी से की। नतीजा यह रहा कि शिक्षकाें की गंदी हरकतें बढ़ती गई। ग्रामीणाें व छात्राओं ने खुद वीडियो बनाकर उन अध्यापकों को एक्सपोज किया, तब शिक्षा विभाग जागा। माध्यमिक शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी ने बताया कि मामले में 11 अध्यापकाें पर कार्रवाई हुई है। इनमें प्रिंसीपल समेत 5 अध्यापकों को सस्पेंड किया गया है, जबकि 6 अध्यापकों को वहां से हटाया गया है। नया स्टाफ लगा दिया है।

मामले का पता लगने के बाद माध्यमिक शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी ने दो अधिकारियों की कमेटी गठित की थी। इनमें संयुक्त निदेशक देवलता व नूतन बाला कपिला शामिल थीं। इनकी जांच में यह भी पता लगा कि ग्रामीण स्कूल में जब 26 जनवरी के समारोह में शामिल होने आए, तभी उन्होंने इसकी शिकायत प्रधानाचार्य सोहनलाल डागला से की थी। लेकिन प्रधानाचार्य ने ग्रामीणाें की बात काे ही अनसुना करते हुए कहा कि मैं शिक्षकाें से बातचीत कर उन्हें समझाऊंगा। लेकिन इसके बाद भी छात्राअाें के साथ अश्लील हरकतें जारी रही तो ग्रामीणाें ने खुद ही इसके सबूत जुटाने शुरू किए। इसके लिए बच्चियों की मदद लेकर उन अध्यापकों के वीडियो बनाए गए। वीडियो फिलहाल पुलिस के पास है और इसकी जांच की जा रही है।

प्रधानाचार्य हमेशा दोपहर 2 बजे ही छोड़ देते थे स्कूल, इसके बाद सब अध्यापकों के भरोसे

22 पीटीडी में प्रधानाचार्य डागला रोज दोपहर 2 बजे ही स्कूल छोड़ देते थे। कारण बताते हैं कि वे रोज अपडाउन करते थे और दोपहर 2 बजे उनके गांव को बस जाती थी। इसके बाद अध्यापकाें के ही भरोसे पूरा स्कूल होता था। जांच में बच्चियों से छेड़छाड़ को लेकर मुख्यत: चार अध्यापकों की भूमिका सामने आई है। इनमें बहादरराम (अंग्रेजी), गजानंद (विज्ञान) तथा परमानंद (शारीरिक शिक्षक) व इंद्राज शामिल हैं। बच्चियों ने टीम को बताया कि ये अध्यापक कई बच्चियों को पहले अश्लील वीडियो व फाेटो दिखाते थे। इसके बाद उनसे छेड़छाड़ करते, साथ ही बच्चियों को धमकाते कि ये बात किसी को भी बताई तो उन पर सख्त कार्रवाई करेंगे। टीम ने रिपोर्ट शिक्षा निदेशक को सौंप दी है।

सीधी बात – आरोपियों को कर दया है सस्पेंड, जल्द ही 16 सीसी चार्जशीट भी दी जाएगी : सौरभ स्वामी, शिक्षा निदेशक

सवाल- छेड़छाड़ मामले में विभाग ने क्या कार्रवाई की?
जवाब- प्रिंसीपल समेत 5 को सस्पेंड किया गया है। इन्हें अब 16 सीसी की चार्जशीट देंगे। बाकी 6 को वहां से हटाया गया है।

सवाल- जांच में अश्लील वीडियो दिखाने की भी बात सामने आई है?
जवाब- यह सही है। बच्चियों ने कहा है कि अध्यापक उन्हें अश्लील वीडियो व फोटो दिखाते थे।

सवाल- ऐसी घटनाएं रोकने को विभाग क्या कार्रवाई करेंगे?
जवाब- मोबाइल ले जाने पर रोक है। इसे सख्ती से लागू करवाएंगे। इसके अलावा गरिमा पेटियों की व्यवस्था को फिर दुरुस्त करेंगे।

दो अध्यापकों के बयान, एक के घर नोटिस चस्पा

छात्राओं काे अश्लील हरकतें करने व पाेर्न वीडियाे दिखाने के मामले में 3 अध्यापकों काे निलंबित कर िदया था। इसके बाद 2 मार्च काे दाेषियाें के बयान लिए जाने थे। उनमें से दाे के बयान लिए गए जबकि 1 शिक्षक बयान देने के लिए आया ही नहीं। अनुपस्थित रहे शिक्षक के घर पर नाेटिस चस्पा किया गया है और उसे सक्षम अधिकारी के समक्ष उपस्थित हाेकर बयान देने के लिए कहा गया है।

सहमी हैं बच्चियां, स्कूल में नया स्टाफ लगाया

स्कूल में पढ़ाई अब भी सुचारु नहीं हो पाई है। कारण, बच्चियां अब भी सहमी हैं। संयुक्त निदेशक देवलता ने बताया कि स्कूल से आरोपी अध्यापकों के अलावा बाकी सभी को इसलिए हटाया गया है, ताकि वहां छात्राओं को किसी तरह का खौफ नहीं रहे। स्कूल में नया स्टाफ लगा दिया गया है, ताकि विद्यार्थी अब बेखौफ हो पेपर दे सकें।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल