समस्त गांधी परिवार मुसलमानों के दिल में डर पैदा कर दिया है- प्रदीप वर्मा

क्रांति न्यूज, ब्यूरो प्रमुख – कवि अनिरुद्ध कुमार सिंह :-

गाजियाबाद ।दि०-29/02/20 – क्रासिंग मंडल, विजय नगर, गाजियाबाद के महामंत्री श्री प्रदीप वर्मा ने एक लिखित संदेश में बताया है कि कांग्रेस पार्टी को यह कतई मंजूर नहीं है कि वह विपक्ष में रहें।इसी कारण से आजतक जब भी कांग्रेस सत्ता से बाहर हुई है तो देश के सभी राज्यों में हिंसा की घटनाएं बढ़ी हैं। दिल्ली में हिंसा की नींव उस दिन रख दी गई थी जब सोनिया गांधी ने कहा था कि हम सबको सड़कों पर आना पड़ेगा और अपनी ताकत दिखानी पड़ेगी । इसके बाद तभी से शाहीन बाग में शुरू हुई धरना-प्रदर्शन । मैं पूछना चाहता हूं कि जब भारत के किसी भी मुसलमान को सी.ए.ए. कानून से कोई नुक्सान नहीं है तो इस प्रकार का डर पैदा करने की क्या आवश्यकता थी ? देश की सारी जनता समझती है कि यह नागरिक संशोधन अधिनियम धर्म के आधार पर सताये गए लोगों के लिए हैं। यदि कोई व्यक्ति किसी विस्थापित परिवार को स्थायी शरण देना चाहता है तो इस नेक काम में सबको उसका साथ देना चाहिए था,ना कि विभिन्न प्रकार के भ्रम पैदा कर देश में हिंसा भड़कानी चाहिए । जब कोई मानव कल्याण का कार्य होता है तो सभी लोग इसमें बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते हैं। ऐसी स्थिति में फिर सी.ए.ए.को विरोध करने का उद्देश्य क्या है? यह कानून भी ऐसे लोगों को स्थायी नागरिकता देगा जिनके साथ उनके अपनों ने अमानवीय कृत्य किए हैं। जाके पांव न फटे विवाई,सो क्या जाने दुःख पराई ? परंतु प्रधानमंत्री श्री मोदी जी के दिल में सताये गए लोगों के लिए पर्याप्त जगह है । इसलिए उन्होंने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सी.ए.ए.) को संसद से पास करवाये । इस क़ानून में कोई कमी नहीं है। लेकिन कांग्रेस को सत्ता से दूर रहना पसंद नहीं है। इसलिए समस्त गांधी परिवार ने मुसलमानों के दिल में डर पैदा कर दिया है।डरे हुए व्यक्ति मारते हैं या तो फिर मर जाते हैं। मेरा मुसलमान भाइयों से निवेदन है कि मानवता को ध्यान में रखकर एक बार ध्यान से नागरिकता संशोधन अधिनियम को पढ़ें क्योंकि भड़काने वाले के घर कभी नहीं फूंकते ।आज की स्थिति ऐसी हो चुकीहै कि हिंदू मुसलमान एक-दूसरे को घृणा से देख रहें हैं। परंतु जिसके घर के चिराग बुझ गये हैं, उनके मनोदशा को समझने कोई तैयार नहीं हैं। आखिर दंगों को रोकना सिर्फ सरकार की जिम्मेदारी नहीं है । अपितु समाज के वरिष्ठ जनों को अपने स्थानीय लोगों के दिलों में व्याप्त डर को निकालने होंगे ।मेरा सरकार से निवेदन है कि उन सभी नेताओं को तब तक जेल में रखा जाये, जबतक कि देश की हालात में बेहतर सुधार हो न जाए। हिंदू- मुसलमान एक साथ बैठकर देश के बारे में सोचें,ना की धर्म के बारे में । मैथिलीशरण गुप्त ने कहा था कि हम कौन थे, क्या हो गये, क्या होंगे अभी ।आओ विचारें मिलकर समस्या सभी ।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल