हैदराबाद के फिल्म मेकर चिन्नी कुमार ने लगाया कॉपीराइट उल्लंघन का आरोप

हैदराबाद के फिल्म मेकर नंदी चिन्नी कुमार ने अमिताभ बच्चन की फिल्म ‘झुंड’ के मेकर्स को लीगल नोटिस भेजा है। नंदी कहना है कि मेकर्स ने कॉपीराइट का उल्लंघन किया है। विवाद में स्लम सॉकर के फाउंडर विजय बरसे का नाम भी शामिल है, जिनके जीवन पर यह फिल्म बनाई गई है। 

आईएएनएस को दिए इंटरव्यू में नंदी ने बताया कि नोटिस का जवाब केवल टी-सीरीज ने ही भेजा है लेकिन वह बहुत अस्पष्ट है। नंदी ने यह आरोप भी लगाया कि फिल्म के निर्माताओं द्वारा उन्हें धोखा दिया गया और आपराधिक धमकी दी गई। कुमार ने सिनेमाघरों, टेलीविजन और सभी डिजीटल प्लेटफार्मों में फिल्म की स्क्रीनिंग को रोकने के लिए अदालत जाने का मन बना लिया है। 

चिन्नी के अनुसार 2017 में उन्होंने अखिलेश पटैल के जीवन पर फिल्म बनाने के राइट्स खरीद लिए थे। अखिलेश स्लम सॉकर प्लेयर हैं जो होमलेस वर्ल्ड कप में भारतीय टीम के कप्तान थे। कुमार अखिलेश के जीवन पर स्लम सॉकर नाम से फिल्म लिखने और डायरेक्ट करने वाले थे। अखिलेश नागपुर की एक झुग्गी में जन्में थे और ड्रग्स के शिकार थे। फुटबॉल के प्रति उनके जुनून ने ही अखिलेश का जीवन बदल दिया था। 


फिल्ममेकर नंदी का कहना है उन्होंने तेलंगाना सिनेमा राइटर्स ऐसोसिएशन में 11 जून 2018 को फिल्म की कहानी रजिस्टर करवाई है। सैराट के डायरेक्टर नागराज मंजुले ने विजय बरसे की लाइफ पर फिल्म बनाने के अधिकार खरीदे हैं। विजय अखिलेश के कोच रहे हैं। झुंड में अखिलेश का भी बड़ा रोल दिखाया जाएगा इसलिए उन्होंने कॉपीराइट उल्लंघन का आरोप लगाया है। 

नंदी के अनुसार नागराज ने अखिलेश पॉल से 4 लाख रुपये में अधिकार खरीदने का दावा किया था, लेकिन दस्तावेजों को दिखाने से मना कर दिया। यहां तक कि अखिलेश ने उन्हें अधिकार बेचने से इनकार कर दिया। नागराज ने मुझे अपमानित किया और बिना कागजात दिखाए निपटान के लिए आने के लिए मजबूर किया।

चिन्नी ने इंडिया मूवी पिक्चर्स ऐसोसिएशन और तेलंगाना सिनेमा राइटर्स ऐसोसिएशन से मांग की है कि वे सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन से झुंड को सेंसर सर्टिफिकेट न देने दें। 

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल