1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम सेनानी फजल अली के जन्म स्थल मिर्जा पुरवा को शहीद स्थल घोषित किया जाए।

रिपोर्ट राम कुमार मिश्रा मोतीगंज गोण्डा :- मोतीगंज ।।गोंडा।। राष्ट्रीय लोक दल के प्रदेश सचिव अर्जुन वर्मा ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि प्रथम स्वाधीनता सेनानी मिर्जा फजल अली का जन्म स्थली को शहीद स्थल घोषित किया जाए शहीद सेनानी का जन्म स्थल जनपद गोंडा के मोतीगंज थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम मिर्जापुर पेड़ारन तहसील गोंडा में हुई बताते चलें इतिहास की माने तो प्रथम स्वाधीनता सेनानी गोंडा नरेश महाराजा देवी भगत सिंह की जन्मस्थली ग्रामसभा जिगना गोंडा में है सन 18 सो 57 ईस्वी को गोंडा जिले के तत्कालीन जिला कलेक्टर कर्नल ब्यालू
ने गोंडा नरेश राजा देवी भगत सिंह सकरौरा बालूगंज वर्तमान कर्नलगंज ने कर्नल ने राजा को संधि स्वीकार करने वा बातचीत करने का न्योता दिया राजा अपने सेनापति मिर्जा फजल अली तथा तीन अन्य साथियों के साथ सकरौरा बालूगंज पहुंचे वहां मौजूद कर्नल ने राजा साहब का बातचीत में अपमान किया राजा साहब बगैर कुछ आगे बातचीत किए वहां से वापस अपने गांव जिगना बहादुर सेनापति ने अपने राजा के अपमान का बदला लेने ठान ली मिर्जा व तीन अन्य साथी 8 फरवरी सन 18 57 को रात आधी रात 12:00 बजे ब्रिटिश पुलिस छावनी में आग लगा दी जिसमें 238 सिपाही जल कर राख हो गए 9 फरवरी सन 18 57 को आजादी के दीवाने सेनापति मिर्जा ने जिला कलेक्टर कर्नल ब्यालू का सर कलम कर दिया 10 फरवरी को कमिश्नर बिंग फिल बहराइच के हाथों ब्रिटिश हुकूमत ने कमान सौंपी 2 दिन मिर्जाबाद ब्रिटिश के बीच जंग छिड़ी रही अंत में 12 फरवरी 18 57 को मिर्जा फजल अली को मुड़ कटवा बहराइच में बेटे सेना ने घेरकर सेनापति मिर्जा फजल शहीद हो गए इसी के तहत बुधवार को अर्जुन वर्मा मिर्जा मेहंदी हसन मुस्लिम अब्बास अली हैदर इब्ने हसन रामविलास वर्मा अशोक कुमार सिंह रमजान अली दीन मोहम्मद सहित एक दर्जन से अधिक लोगों ने बुधवार 12 फरवरी को मिर्जा फजल अली के गांव मिर्जापुरवा में बैठक कर सरकार से मांग की है कि इनके जन्मस्थली को पैतृक गांव को शहीद का दर्जा दिया जाए।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल