गर्भवती महिला के पेट में IPS अधिकारी सौम्या मिश्रा ने मारी लात, पेट में ही बच्चें की हुई मौत

kranti news beauro August 25, 2019

उडीसा से एक सनसनीखेज मामला सामने आ रहा है यह खबर इंसानियत और कानून को शर्मशार कर दिया है। आज दुनिया में कहीं भी किसी के साथ जूल्म होता है तो पीड़ित को लगता है उसे इंसाफ पुलिस और कोर्ट जरूर देगी लेकिन जब पुलिस प्रशासन ही उस पीड़ित के साथ जूल्म करने लगे तो वो कहाँ जाएगें। उड़ीसा के हेमगीर पुलिस स्टेशन से एक ऐसी ही घटना सामने आई है। सुत्रों के मुताबित 3 जूलाई को एसयूवी की चपेट में आने के कारण 19 साल के युवक की मौत हो गई थी। कनिका गांव के लोगो ने उसका विरोध करते हुए पुलिस बीट हाउस को घेर कर एसयूवी चलाने वाले व्यक्ति की पकड़नेे की मांग की। गुस्साये लोगों ने वहां पर पत्थरबाजी की जिससे की कुछ कांस्टेबल जख्मी हो गए। जिसके बाद पुलिस वालों ने विरोध करने वाले करीब 14 लोगों के गिरफ्तार कर लिया था जिसमें पीड़िता कनिका के पति उत्तम भी शामिल थे। प्रिया ने सुंदरगढ में एक सब डिविजनल ज्यूडिशियल अदालत में कहा पुलिस जब हमारे पति को गिरफ्तार नही कर पाई ते वो हमारे पति को ढूँढते हुए उनके घर पहुँच गई जहाँ पर प्रिया से पुलिस वालों ने मारपीट की और गर्भवती के पेट पर आईपीएस सौम्या मिश्रा ने उनके पेट पर लात मार दी. जिसके वजह से उनका गर्भवात हो गया। प्रिया की शिकायत दर्ज कर लिया गया है. जिसपर हेमगीर पुलिस स्टेशन की इंस्पेक्टर श्रद्धाजंलि सुबुद्धि ने ने कहा, आईपीएस सौम्या मिश्रा के खिलाफ एसपी को 341 (गलत संयम), 506 (आपराधिक धमकी), 457 (अत्याचार या घर तोड़ने की सजा सहित कई आरोपों के साथ जेल में रखा गया है। ), 294 (किसी भी सार्वजनिक स्थान पर अश्लील कृत्य जो दूसरों को परेशान करता है), 342, 427, 313 (महिला की सहमति के बिना गर्भपात का कारण), 166 (लोक सेवक अवज्ञा कानून), आईपीसी का 503 और 504 जैसे धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया WhatsApp Facebook Twitter google_plus

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल