भारतीय नागरिक संशोधन अधिनियम(CAA) के मामले में जो नेता विरोध कर रहे हैं, वे सीधे पाकिस्तान की नागरिकता ग्रहण करें अन्यथा भारत में रहकर सी.ए.ए. का समर्थन करें ।

क्रांति न्यूज (ब्यूरोप्रमुख)कवि अनिरुद्ध कुमार सिंह :- गाजियाबाद ।भारत में नागरिक संशोधन अधिनियम के खिलाफ कांग्रेस पार्टी और मुस्लिम लीग के द्वारा उनसठ( 59) याचिकाएं दायर किए गए हैं । यहां एक सौ से ज्यादा पूर्व नौकरशाहों ने एक पत्र में लिखा है कि भारत में सी.ए. ए, एन. पी. आर और एन. आर. सी की जरूरत नहीं है । मैं उन सभी विरोधियों से साफ-साफ बता देना चाहता हूं कि जिसके विरोध में आप ग़लत बोल और लिख रहे हैं, उस कानून के पक्ष में भारत की जनता प्रधानमंत्री और गृहमंत्री के साथ हैं । आप कहते हैं कि इस कानून की देश में कोई जरूरत नहीं है, तो मैं भी विरोध करने वाले नेता से कहना चाहता हूं कि आप जैसे विरोधी नेता को भारत में रहने की जरूरत नहीं है । आप इस क़ानून के मामले में ज्यादा विशेष नहीं बोलें, तो सही रहेगा अन्यथा जो नेता बन रहे हैं उन्हें भारतीय जनता किसी लायक नहीं रहने देंगे । इसलिए बिना सोचे-समझे भारतीय नागरिक संशोधन अधिनियम पर कुछ भी नहीं कहिए तो देशहित में उचित रहेगा अन्यथा आपको जनता की बहुत भारी आक्रोश का सामना करना पड़ेगा । ममता बनर्जी, सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के अलावा जो भी नेता भारतीय नागरिक संशोधन अधिनियम के खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं,उन सभी नेताओं से मैं यह जानना चाहता हूं कि आप इस प्रश्न का उत्तर जनता के सामने दें- क्या आप पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से पड़ताड़ना के शिकार हुए लोगों के साथ हैं अथवा जो पड़ताड़ना के शिकार नहीं हुए हैं, उनके साथ हैं? अगर आप इस प्रश्न का उत्तर देते हैं, तब मैं आपको कानून के दायरे में उचित जवाब दूंगा । आपको अगर अभी तक किसी नेता ने जवाब नहीं दिया हो, तो आप एक बार ज़रा मुझसे बहस करके देख लीजिए, तब आपको सही- गलत का पता सही ढंग से हो जाएगा । आप मुझे सबसे पहले पूछे गए सवाल का जवाब दीजिए, तब मैं आपको पाकिस्तान, बंगलादेश और अफगानिस्तान जाने का सही पता बता दूंगा। आप थोड़ा – सा देशद्रोही लोगों के समर्थन से भारतीय नागरिक संशोधन अधिनियम को लागू करने से रोक नहीं सकते हैं । अगर आप में हिम्मत है तो इस क़ानून को रोक कर दिखाइए । जनता आपको ईंट का जवाब पत्थर से देंगी । भारतीय जनता आपसे कह रही है कि भारतीय नागरिक संशोधन अधिनियम(CAA) के मामले में विरोध करन वाले नेता सीधे पाकिस्तान की नागरिकता ग्रहण करें अन्यथा भारत में रहकर सी. ए. ए का समर्थन करें ।जो नेता भारतीय नागरिक संशोधन अधिनियम को विरोध करते हैं, उनसे देशद्रोही होने के कारण भारतीय नागरिकता छिनकर पाकिस्तान भेजने की खर्चा भारतीय जनता देने को तैयार है ।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल