कल रात में लगेगा ग्रहण, मांद्य चन्द्र ग्रहण होने के कारण सूतक काल नहीं रहेगा

ज्योतिष शास्त्र और खगोलीय नजरिए से इस साल में कुल मिलाकर 6 ग्रहण होंगे। निर्णय सागर पंचांग के अनुसार साल का पहला चंद्र ग्रहण 10 जनवरी दिन शुक्रवार को पौष शुक्ल पूर्णिमा के दिन है। यह ग्रहण 10 जनवरी की रात्रि 10:37 बजे से होकर 11 जनवरी की तड़के सुबह 02:42 बजे तक रहेगा। लेकिन यह चन्द्र ग्रहण भारत के कुछ हिस्सों में दिखाई देगा और बिहार में यह ग्रहण दिखाई नहीं देगा I बिहार में न तो इसकी कोई धार्मिक मान्यता होगी I न ही इसका असर विभिन्न राशियों पर कोई फल घटित होगा।

बिहार में नहीं होगा इसका असर

भारतीय ज्योतिष विज्ञान परिषद के सदस्य कर्मकांड विशेषज्ञ ज्योतिषाचार्य पंडित राकेश झा शास्त्री ने कहा कि ग्रहण जहां दिखाई देता है सूतक भी वहीं लगता है तथा उसका फलाफल भी वही लागु होता है I यह ग्रहण भारत के कुछ हिस्सों में (राजस्थान, हरियाणा, पूर्वी उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड), यूरोप, आस्ट्रेलिया, एशिया के साथ अफ्रीका में दिखाई देगा।

ग्रहण के बाद दान-धर्म से शुभता की प्राप्ति

ज्योतिषी झा के मुताबिक 11 जनवरी की सुबह चंद्रग्रहण के बाद गंगा स्नान से एक हजार वाजस्नेय यज्ञ के समान फल की प्राप्ति होती है। चन्द्र ग्रहण के बाद स्नान और दान का विशेष महत्व होता है । पंडित झा ने मान्यताओं के हवाले से बताया कि चन्द्र ग्रहण के बाद गेहूं, धान, चना, मसूर दाल, गुड़, चावल, सफेद-गुलाबी वस्त्र, चूड़ा, चीनी का दान करना शुभ माना गया है। ग्रहण के बाद गंगाजल में इत्र या गुलाबजल डाल कर घर में छिड़काव करने से सौभाग्य प्राप्त होता है I

इस वर्ष के छह ग्रहण का ज्योतिष महत्व

पंडित झा ने बताया कि नए साल का आरंभ चंद्रग्रहण से हो रही है। वहीं इस साल में कुल छह ग्रहण लगेंगे, जिसमें चार चंद्रग्रहण और दो सूर्यग्रहण होंगे I इनमे एक सूर्यगहण व एक चंद्रग्रहण भारत में नहीं देखा जाएगा I 10 जनवरी 2020 दिन शुक्रवार को पहला चंद्रग्रहण है। वहीं दूसरा चंद्रग्रहण 5 जून, तीसरा 5 जुलाई तथा चौथा व अंतिम 30 नवंबरको लगेगा। जनवरी, जून एवं नवंबर का चंद्रग्रहण भारत में दिखाई देगा, वहीं 05 जुलाई वाला भारत में दिखाई नहीं देगा I नए साल में पहला सूर्यग्रहण 21 जून को लगेगा। दूसरा सूर्य ग्रहण 14 दिसंबर को लगेगा, लेकिन यह भारत में नहीं दिखेगा ।

चंद्र ग्रहण 2020 में:

10 जनवरी – ग्रहणकाल रात्रि 10: 37 बजे से 11 जनवरी को अहले सुबह 02 :42 बजे तक
05 जून -ग्रहणकाल मध्यरात्रि 11 : 15 बजे से 6 जून को भोर में 02 :34 बजे तक
05 जुलाई – ग्रहणकाल प्रातः 08:37 बजे से 11:22 बजे तक (यह ग्रहण भारत में नहीं दिखेगा)
30 नवंबर – ग्रहणकाल मध्याह्न 01:02 बजे से शाम 05:23 बजे तक

सूर्यग्रहण 2020 में:

21 जून – ग्रहणकाल प्रातः 09 :15 बजे से 03 :30 बजे तक
14 दिसंबर – ग्रहणकाल शाम 07: 03 बजे से मध्यरात्रि 12 बजे तक (यह ग्रहण भारत में नहीं दिखेगा) ।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल