प्रियंका के आरोपों से आहत हैं उनकी सुरक्षा में तैनात सीओ : अर्चना सिंह

kranti news lucknow , (reporter) vikram singh :- भाई की मौत भी नहीं डिगा सकी फर्ज से ,
राजधानी लखनऊ । भाई की मौत भी नहीं डिगा सकी फर्ज से , जिस भाई की कलाई पर इतने सालों तक राखी बांधकर सीओ डॉ अर्चना सिंह ने उनकी रक्षा की कामना की उस भाई की मौत का दुख समाचार जब मिला तो डॉक्टर अर्चना कुछ पल के लिए सहम गई खुद को संभाला और फर्ज निभाने की ठानी उन पर कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा की सुरक्षा की जिम्मेदारी थी । डॉ अर्चना ने किसी को भी अपने भाई की मौत की सूचना नहीं दी प्रियंका की सुरक्षा की ड्यूटी पूरी और फिर एसएसपी को अपने भाई की मौत की सूचना दी। प्रियंका वाड़्रा से धक्का-मुक्की करने के आरोपों पर डॉ अर्चना आहत हैं । डॉक्टर अर्चना मॉडर्न कंट्रोल रूम में सीओ हैं उनके चचेरे भाई को पीलिया हो गया था। पीलिया होने के कारण शरीर में संक्रमण भी हो गया । दिल्ली के एक अस्पताल में चचेरा छोटा भाई जिंदगी और मौत से लड़ रहा था । डॉक्टर अर्चना अपने भाई से मिलने के लिए छुट्टी मांग रही थी। हालांकि उनकी छुट्टी ही नहीं मिली प्रियंका के लखनऊ आने पर उनकी सुरक्षा के लिए डॉ अर्चना को तैनात कर दिया गया । प्रियंका की फ्लीट में शामिल अर्चना के भाई की मौत का समाचार उनको मिला । इस पर की सुरक्षा में कोई सेंध ना पहुंचे इसका ख्याल रखते हुए अपनी भावनाओं पर नियंत्रण किया। जब उनके ऊपर धक्का-मुक्की किए जाने का आरोप लगाया तो उनको अंदर से बहुत दुख हुआ और फिर अपने ड्यूटी को पूरा करते हुए एसएसपी कलानिधि नैथानी से। बिहार में क्रिया कर्म में शामिल होने की अनुमति मांगी । इस उठापटक के बीच मॉडर्न कंट्रोल रूम में तैनात पुलिस अधीक्षक अर्चना सिंह बीते 1 हफ्ते से मौत से जूझ रहे हॉस्पिटल में पड़े अपने भाई से मिलने के लिए छुट्टी मांग रही थी लेकिन सियासी और दंगाइयों की अराजकता के कारण छुट्टी नहीं मिली और ना ही अपने कर्तव्य से पीछे हटते हुए अपने ड्यूटी छोडी लेकिन सियासत दोगली चीज है यह ना किसी बहन के आंसुओं की कद्र करती है। और ना ही किसी इंसान की पीड़ा को समझती है । *बाप की विरासत में पलने वाले लोग // मेहनत और 18 घंटे किताबों के सामने आंखें लगा के कमाई गई वर्दी की कीमत नहीं जान सकते ।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल