CAA , NRC एवं NPR पर जनता का विरोध क्यों ?

(ब्यूरो प्रमुख), कवि अनिरुद्ध कुमार सिंह के द्वारा…
गाजियाबाद ।जन – संपर्क एवं समाचार पत्रों के द्वारा पता चला है कि नागरिक संशोधन अधिनियम (CAA), राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) के विषयों पर विपक्षी नेता और मुट्ठी भर जनता के द्वारा भारी विरोध किए जा रहे हैं । जब मैंने गाजियाबाद के नागरिकों से कहा कि जब धर्म के नाम पर मुसलमानों को पाकिस्तान, बंगलादेश एवं अफगानिस्तान दे दिए गए, तब वहां रह रहे अल्पसंख्यकों के उपर भारी अत्याचार ढाये गये और अब भी अत्याचार हो रहे हैं,तब वहां से पलायन करके आने वाले हिन्दू,सिख, बौद्ध,जैन, पारसी एवं इसाई को भारत सरकार ने भारतीय नागरिक होने के अधिकार लागू किए, तो इस विषय पर मुट्ठी भर जनता एवं विपक्षी नेता विरोध क्यों जता रहे हैं? इस प्रश्न के उत्तर में नाम नहीं छापने के शर्त पर कुछ नागरिकों ने मुझे बताया कि देश में शिक्षा, रोजगार और स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं का समाधान नहीं किया जा रहा है। बीजेपी की सरकार महंगाई और बलात्कार पर रोक नहीं लगा पा रही है । इसलिए यह सरकार जनता के मुख्य समस्याओं से ध्यान बांटने के लिएCAA,NRC एवंNPR लागू करने की चर्चा करती है । सरकार को जनता से जुड़ी हुई समस्याओं को सबसे पहले समाधान निकालना चाहिए , लेकिन यह सरकार इस प्रश्न पर कुछ भी विचार नहीं कर रही है । जब मैंने गाजियाबाद के अन्य नागरिकों से बातचीत करते हुए पूछा कि पुरी दुनिया में अनेक मुस्लिम देश है, परंतु गैर- मुस्लिम जैसे हिन्दू,सिख, बौद्ध,जैन, पारसी एवं इसाई के लिए एक मात्र सहारा भारत देश हीं है, तो आप सभी मुसलमानों को लेकर क्यों देश में दुष्प्रचार कर रहे हैं कि भारतीय नागरिक संशोधन अधिनियम मुस्लिम एवं संविधान विरोधी है ? क्या यह सच नहीं है कि पाकिस्तान में धर्म के आधार पर मुसलमानों को कोई पड़ताड़ित नहीं करता है ? अगर यह सच है, तब विदेशी मुसलमानों को अपने देशों में रहने में तो कोई परेशानी नहीं है, तब आप सभी क्यों परेशान हो रहे हैं? जबकि हिन्दू सहित अन्य धर्मों के लोग मुसलमानों के द्वारा पड़ताड़ित हो रहे हैं, तब वे सब भारत नहीं रहेंगे तो तो वे सब कहां जायेंगे ? इस प्रश्न के उत्तर में गाजियाबाद के कुछ नागरिक कहते हैं कि वे सब पाकिस्तान, अफगानिस्तान एवं बंगला देश क्यों रहने गए थे? उस समय क्या सोचकर वे लोग वहां रहने गए थे ? अब वहां गये, तो पड़ताड़ित हो रहे हैं । लेकिन सरकार को चिंता क्यों हो रही है? भारत सरकार अपने लोगों को सम्भाल नहीं पा रही है और चले विदेशी लोगों को नागरिकता प्रदान करने । हमें सबसे पहले समस्याओं का समाधान चाहिए।

Translate »
क्रान्ति न्यूज लाइव - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल