भारतीय नागरिक रजिस्टर को लागू करने का अधिकार सिर्फ केन्द्र सरकार को है, बाकी किसी भी राज्य सरकार को इसे रोकने का अधिकार हीं नहीं है ।..

(क्रांति न्यूज , ( ब्यूरो प्रमुख ) कवि अनिरुद्ध कुमार सिंह ):-
सभी नेता को राजनीति करने के पहले यह भली-भांति पता होना चाहिए कि कौन- सी विषय किस सरकार के अधीन है , और कौन- सी विषय किस सरकार के अधिकार में नहीं है । जिस नेता को यह कानून पता नहीं है, तो उन्हें भारतीय नागरिक रजिस्टर पर बोलने का बिल्कुल भी अधिकार नहीं है । जब आप किसी कानून के संबंध में विशेष जानकारी प्राप्त कर लीजिए, तब किसी विषय पर बोला कीजिए
आज के नेता कानून को जाने बिना हीं जनता को सुनाकर कह रहे हैं कि मैं अपने राज्य में किसी भी हालत में भारतीय नागरिक रजिस्टर अधिनियम को लागू नहीं होने दूंगा ।जो राज्य सरकार के मुख्यमंत्री कहते हैं कि एन. सी. आर. को अपने राज्य में लागू नहीं होने दूंगा , उनसे जनता यह प्रश्न पूछना चाहते हैं कि आपको भारतीय नागरिक रजिस्टर अधिनियम को लागू नहीं करने का अधिकार किसने दिए है? जब कोई मामला आपके आधीन नहीं है तो आप अपनी सीमा से बाहर जाकर क्यों बिना मतलब के जनता के सामने अनाप-शनाप बकते रहते हैं? क्या आप ऐसा बोलने के पहले कुछ सोचते भी हैं? बिहार के मुख्यमंत्री,पं० बंगाल के मुख्यमंत्री और अन्य राज्यों के मुख्यमंत्री को एन. सी. आर. अपने- अपने राज्य में लागू नहीं करने के अधिकार किसने दिए? जब आपको केन्द्र सरकार ने भारतीय नागरिक रजिस्टर को कानून के दायरे में लागू करने के लिए कहा है, तब आप रोकने बाले कौन होते हैं? क्या इस कानून को पारित करना और फिर इसे रोकना आपके अधिकार क्षेत्र में है? जब आपके अधिकार में इस क़ानून को रोकने का अधिकार नहीं है तो उस कानून के विरोध में बोलकर आप देशद्रोही जैसा कार्य क्यों करते हैं? भारतीय जनता आपके ऐसे काम से बिल्कुल संतुष्ट नहीं हैं । अतः समय रहते हुए राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, सोनिया गांधी, ममता बनर्जी, नीतीश कुमार, तेजस्वी यादव एवं अन्य नेता भी दैशहित में अपने चरित्र को सुधार कर लें, अन्यथा आप सभी को जनता ठीक से सुधार देंगे । आप सभी बिना कारण के भारतीय नागरिक रजिस्टर के संबंध में जनता को वेवकूप नहीं बनाइये । ऐसे जनता भी आपकी असलियत को पहचान गयी है । इसलिए जनता आपके बहकावे में नहीं आने वाली है ।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल