भारतीय नागरिक संशोधित अधिनियम के विरोधी नेता और फर्जी नागरिक देशद्रोही एवं आतंकवादी हैं ।………..

(क्रांति न्यूज चैनल, ब्यूरो प्रमुख, कवि अनिरुद्ध कुमार सिंह के द्वारा) :-
गाजियाबाद ( उ.प.) वर्तमान समय में देशहित में बनाये गये भारतीय नागरिक संशोधित अधिनियम के खिलाफ पूरे भारत में हिंसात्मक तरीके से आंदोलन हो रहे हैं । इस अधिनियम के विरोधी नेता और फर्जी नागरिक देशद्रोही एवं आतंकवादी हैं ।जो नेता पाकिस्तान, अफगानिस्तान एवं बंगला देश से आए हुए पीड़ित व गैर- मुस्लिम धर्म जैसे हिन्दू, बौद्ध,सिख, पारसी,जैन एवं इसाई लोगों को भारतीय नागरिक बनाने का हिंसात्मक तरीके से भारी विरोध कर रहे हैं, वे देश के कट्टर दुश्मन हैं । जब तीन देशों में मुसलमानों के द्वारा गैर – मुस्लिम धर्म के लोगों को पड़ताड़ित किये जाते हैं, तब भारत के देशद्रोही नेता को धर्मनिरपेक्षता के कानून याद नहीं आते हैं । देश के गद्दार नेता को समानता एवं मानवता का भेदभाव तब नजर नहीं आता था,जब विदेशी मुसलमानों के द्वारा छः धर्म के लोगों के उपर घनाघोर अत्याचार ढाये जा रहे थे । विदेशी मुसलमानों के द्वारा भारी अत्याचार के कारण वहां अल्पसंख्यक धर्म के लोगों को आत्महत्या करने पर मजबूर होना पड़ा । वहां काफी संख्या में गैर- मुस्लिम को मुसलमान बना दिए गए । वहां से अनेकों लोगों को भारत भागने पर मजबूर होना पड़ा,तब भारत के देशद्रोही नेता के आंखों में आंसू नहीं आये । तब देश के गद्दार नेता कान में तेल डालकर कुम्भकरन के समान घोर निंद्रा में सोए रहते थे । वहां से जो लोग मुसलमान नहीं बनना चाहते थे, वे सब जमीन एवं अन्य संपत्ति को छोड़कर भारत में शरणार्थी के रूप में उपस्थित हुए । इनकी दयनीय स्थिति पर संविधान के कसम खाने वाले सोनिया गांधी, राहुल गांधी, ममता बनर्जी, नीतीश कुमार एवं अन्य नेतागण को अपने दिलों में दया नहीं आई ।वाह रे,वाह देश के देशद्रोही नेता , आपको मानवता एवं कानून से समझाना भारी मुश्किल है, लेकिन जब आपके भाषा में जवाब दिया जाएगा, तब आप सुधरेंगे । जब भारत सरकार ने गैर -मुस्लिम धर्म के लोगों के हित में भारतीय नागरिक संशोधन अधिनियम लागू किया, तब आप हाय-तौबा मचाने लगे । ऐसा नेता को चुल्लू भर पानी में डुबकर मर जाना हीं अच्छा है ।जो नेता खाते यहां हैं और गुण गाते हैं विदेशी मुसलमानों का । वैसे नेता देश के नाम पर भारी कलंक है । ऐसे नेताओं को भी आतंकवादियों की तरह फांसी पर यथाशीघ्र लटका देना चाहिए ।जो अपने देश का नहीं,वो नेता किसी काम का नहीं है । ऐसे नेताओं से सरकार सख्ती से निर्ममता पूर्वक व्यवहार करना चाहिए ।जो लोग हिन्दू होकर मानवता की बात करते हैं,उन लोगो को दोनों कान पकड़कर कर पाकिस्तान भेज देना चाहिए क्योंकि मानवता की पाठ वहां के मुसलमानों को खाली बैठे पढ़ाते रहेंगे ।जो नेता को लगता है श्री नरेन्द्र मोदी जी एवं श्री अमित शाह जी गलत कर रहे हैं, तो अभी समय है कि चुपचाप पाकिस्तान भाग जायें, अन्यथा यहां की जनता आपको चटनी बना- बना कर कुत्तों को खिला देंगे ।अब आप लोग ज्यादा राजनीति कर चुके हैं, लेकिन अब यहां देशद्रोही को खैर नहीं है।जो नेता यह प्रश्न करते हैं कि विदेशी मुसलमानों को क्यों नहीं भारतीय नागरिक बनाते जाते हैं,उन नेताओं से भारतीय जनता पूछना चाहते हैं कि क्या पाकिस्तान, अफगानिस्तान एवं बंगला देश में गैर – मुसलमान जैसे हिंदू,सिख, बौद्ध,जैन,इसाई एवं पारसी को वहां के मुसलमानों के जैसे सुख- सुविधा एवं मान- सम्मान मिलते है? इस प्रश्न का सीधा उत्तर यह है कि वहां गैर – मुसलमानों को कोई सुख- सुविधा नहीं मिलती हैं तो फिर भारत में विदेशी मुसलमानों को क्यों नागरिक बनाया जायेगा । अगर जो नेता विदेशी मुसलमानों को भारतीय नागरिक बनाने की इच्छुक हैं, तो मेरा वैसे नेताओं से कहना है कि आप पाकिस्तान जाने के लिए हमेशा तैयार हो जाइए क्योंकि अब आप की बारी बहुत जल्द हीं आने वाले हैं । भारतीय जनता आपको जल्द हीं भारी सबक सिखाने को तैयार हैं । जय, जय, जय श्रीराम ।

Translate »
क्रान्ति न्यूज लाइव - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल