नगर पंचायत कटेरा के अधिशासी अधिकारी ने गौशाला के नाम पर 4 लाख रुपये हड़पने का मामला आया सामने

kranti news jhansi , ( beauro chief ) girwar singh :- नगर पंचायत के पार्षद एवं अध्यक्ष व अन्य लोगों ने अधिशासी अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग

वीओ-झाँसी मऊरानीपुर नगर पंचायत कटेरा में गौशाला के लिए आई धनराशि अधिशासी अधिकारी द्वारा हड़प लेने तथा तथा उक्त मद में आए रुपए की बारे में जब नगर पंचायत अध्यक्ष व पार्षदों ने जानकारी चाही तो अधिशासी अधिकारी ने इस संबंध में कोई भी जानकारी देने से इंकार कर दिया।जिससे गुस्साए अध्यक्ष व पार्षदों ने अधिशाषी अधिकारी के विरुद्ध एक हस्ताक्षर युक्त ज्ञापन शासन के उच्च अधिकारियों एवं क्षेत्रीय सांसद को भेजकर अधिशाषी अधिकारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की है।जानकारी के अनुसार नगर पंचायत पटेरा के अध्यक्ष मधुकर शाह बुंदेला सहित पार्षदों ने एक हस्ताक्षर युक्त ज्ञापन शासन के उच्च अधिकारियों व सांसद को भेजकर बताया कि नगर पंचायत कटेरा की गौशाला के लिए शासन द्वारा चार लाख रुपये भेजा गया था।लेकिन अधिशाषी अधिकारी द्वारा न तो कहीं गौशाला का निर्माण कराया और न ही जानवरों को खाने पीने की कोई व्यवस्था की।जब 10 दिसंबर को पार्षदों द्वारा गौशाला की धनराशि का व्योरा अधिशासी अधिकारी से मांगा गया तो वह की धनराशि का कोई भी प्रपत्र सदन में प्रस्तुत नहीं कर सके। जबकि उक्त धनराशि की निकासी कर ली गई है।तथा अस्थाई तौर पर स्टेडियम में गौशाला बनाई गई।जिसमें 120 गौवंश के लिए खाने का इंतजाम कागजो में चल रहा है लेकिन हकीकत में उक्त अस्थाई गौशाला में दस या पन्द्रह गौवंश ही दिखाई दे रहे थे।इसी तरह नगर पंचायत की भूमि पर कई स्थानों पर अतिक्रमण हो रहा है। लेकिन कोई रुचि नहीं ले रहे हैं।जब पार्षदों ने अधिशाषी अधिकारी से ग्रह कर आरोपित किए जाने के संबंध में जानकारी चाहिए तो वह बिना सदन की अनुमति के बाहर निकल गए। बुलाए जाने पर भी वह सदन में वापस नहीं आए।अधिशाषी अधिकारी अपना निवास नगर में न बनाकर कहीं और निवास बनाए हुए हैं।जब अधिशाषी अधिकारी के पास पत्रकारों ने जाकर उनसे बाइट लेनी की बात कही तो अधिशासी अधिकारी ने उनको बाइट देने से इंकार करते हुए बताया कि आप वाइट लेने बाले कौन होते हो मेरे अधिकारी हो क्या जो हम बताये और पत्रकारो के द्वारा पूछे गये सवालों के जबाब देने से इंकार कर दिया।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल