दंगा ग्रस्त जिलों में हुए दंगों के जिम्मेदार है डीएम एसएसपी एसपी और पुलिस के मुखिया डीजीपी

kranti news beauro :-कल नागरिकता कानून के विरोध में उपद्रवियों द्वारा किए गए उपद्रव की वजह से लखनऊ में हुई आगजनी से उत्तर प्रदेश पुलिस के मुखिया ने नहीं लिया सबक ।

जबकि उत्तर प्रदेश के मुखिया और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भलीभांति जानकारी थी कि आज जुम्मे का दिन है और सभी मुसलमान अपनी अपनी मस्जिदों में जुमे की नमाज पढ़ेंगे और एक जगह एकत्रित होंगे ।

और यह भी संभावना थी की जुमे की नमाज के बाद नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन भी करेंगे व इस बात से भी नकारा नहीं जा सकता कि इन अधिकारियों और कर्मचारियों को भली-भांति जानकारी थी कि कहीं-कहीं यह प्रदर्शन उग्र भी हो सकता है ।

फिर पुलिस के मुखिया व जिले के डीएम और एसएसपी एसपी ने क्षेत्र के बुद्धिजीवियों से वार्ता करते हुए नागरिकता कानून के बारे में समझाने की प्रक्रिया को शुरू क्यों नहीं किया या उत्तर प्रदेश पुलिस और उत्तर प्रदेश पुलिस के मुखिया ओवरकॉन्फिडेंस में अपनी नौकरी करते हैं ।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तो भली-भांति परिचित थे कि कल जुम्मे का दिन है और कहीं-कहीं उपद्रव भी हो सकता है इसी कारण से मुख्यमंत्री ने रात को 10:00 बजे वीसी कर अपने प्रदेश के सभी अधिकारियों से शांति व्यवस्था लॉयन ऑर्डर को मेंटेन रखने के लिए और सभी बुद्धिजीवी व्यक्तियों से वार्ता करने के लिए आदेश निर्देश भी दिए थे मुख्यमंत्री के निर्देशों के बावजूद भी नहीं जागा उत्तर प्रदेश पुलिस का डिपार्टमेंट ।

उत्तर प्रदेश के जिन जिलों में उपद्रव हुआ है आगजनी हुई है तोड़फोड़ हुई है पुलिस को मारा गया है या लाठीचार्ज हुई है इस आगजनी तोड़फोड़ के जिम्मेदार उत्तर प्रदेश पुलिस के मुखिया और दंगा ग्रस्त जिलों के डीएम और एसएसपी एसपी ही जिम्मेदार हैं ।

और तो और हमारे प्रदेश की एलआईयू टीम भी पूरी तरह से फेल हो चुकी है जबकि एलआईयू टीम को पूरी तरह से जांच पड़ताल करते हुए आने वाले खतरे की जानकारी शासन को सौंपनी चाहिए थी मगर एलआईयू भी अपने निकम्मे पन को छुपा नहीं पाई ।

इसके साथ-साथ मेरा एक और मानना और है जिन जिलों में इस तरह के उग्र प्रदर्शन हुए हैं तोड़फोड़ हुई है उन जिलों में तोड़फोड़ और उग्रता के जिम्मेदार एक समुदाय के लोग ही नहीं हो सकते मुझे आशंका है कि इन प्रदर्शनकारियों में कुछ असामाजिक तत्व जोकि इस समुदाय को चाहता हो बदनाम कराना वह लोग भी इन प्रदर्शन को तूल पकड़वाने के लिए ऐसा उपद्रव करने की शुरुआत कर सकते हैं यह भी एक जांच का विषय है किसी एक समुदाय को दोषी ठहराया जाना भी गलत है।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल