भोजपुरी पूर्वी लोक गीत- कररवा ये रजऊ

कई के कररवा ये रजऊ|
करेजा काहे काढ़ी हो गईला |
पलटी के ना देखला ये करेजउ |
धोखा मे हमके डाली हो गईला |
बोला बोला ये बेईमनवा |
कईला काहे करेजवा कठोर |
देखाई के हमके सपनवा |
बीच भवरा छोड़ी हो गईला |
कई के कररवा ये रजऊ|
सुना सुना ये घटिहउ
छतिया फाटेला हमार |
पकड़ी के हमरो कलईया |
छोड़ी हमरा तू छलिया हो भईला |
कई के कररवा ये रजऊ|
आवा आवा हमरे लगवा आवा |
माना ना बतिया हमार |
भरी अंकवारिया हो हमके |
प्यार हमके खाली हो कईला |
कई के कररवा ये रजऊ|
करेजा काहे काढ़ी हो गईला |

kranti news with shyam kunwar bharti { rajbhar}
writter , socialworker

Translate »
क्रान्ति न्यूज लाइव - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल