यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत। अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ॥ परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् । धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे ॥

अगर मोदी-शाह नहीं होते तो हमको पता ही नहीं चलता कि हम हिन्दुओं के खिलाफ़ कितना बड़ा षड्यन्त्र चल रहा था, कुछ जयचन्दो को खरीदकर आताताई धीरे-धीरे इतिहास दोहराने की फ़िराक़ में थे, अपने नापाक मनसूबे पूरे करने किसी भी हद तक जा सकते थे!

मोदी-शाह ने जैसे ही 370, श्री राम मन्दिर, CAB, NRC जैसे कड़े फ़ैसले लिए सारे जयचन्द और उनके खरीददार अब्बा सब सामने आ गए सिर्फ़ इसलिए क्योंकि ये फ़ैसले कहीं ना कहीं हिन्दू हित में थे!

CAB, NRC जैसे फ़ैसलों ने एक झटके में गज़वा ए हिन्द जैसे ख्वाब को चकनाचूर कर दिया, इतने सालों की प्लानिंग, इन्वेस्टमेन्ट सब बेकार चला गया, ना जाने कैसे कैसे गलत तरीकों से ज़िहादी घुसपैठिए देश में घुसाए गए, हिन्दुओं की संख्या कम करने के लिए या तो धर्म परिवर्तन कराए गए या जयचन्दों का सहारा लेकर जातियों के नाम पर बाँटा गया, भड़काया गया और आपस में लडा़या।

अगर 20 साल और जयचन्द सत्ता में रहते तो हिंदू इतना कमजोर कर दिया जाता कि शायद कभी भी खड़ा नहीं हो पाता।

राम-कृष्ण के इस देश को वो समझ ही नहीं पाए, भगवान श्री कृष्ण ने कहा है

यदा यदा हि धर्मस्य ग्लानिर्भवति भारत।
अभ्युत्थानमधर्मस्य तदात्मानं सृजाम्यहम् ॥
परित्राणाय साधूनां विनाशाय च दुष्कृताम् ।
धर्मसंस्थापनार्थाय सम्भवामि युगे युगे ॥

इतिहास गवाह है जब-जब इस देश पर किसी असुर ने नज़र डाली है तब-तब कोई ना कोई महायोद्धा खड़ा हुआ और असुरों को खदेड़ दिया गया।

लेकिन कुछ हमारे भी कर्तव्य हैं जिनको निभाना हमारा धर्म है। #370_CAB_NRC अगर हिन्दू हित में है तो फ़िर इनका विरोध करने वाले हिंदू विरोधी ही होंगे इसमें कोई सन्देह नहीं होना चाहिए।

खुद को दलितों की मसीहा बताने वाली बसपा सुप्रीमो मायावती हिन्दुओं के विरोध में क्यों हैं?

खुद को यादवों का ठेकेदार बताने वाले सपा प्रमुख अखिलेश हिन्दुओं के विरोध में क्यों हैं?

खुद को सेक्युलर बताने वाली कांग्रेस हिन्दू सहित सभी धर्मों का त्याग कर सिर्फ़ मुसलमानों के लिए क्यों लड़ रही है?

जयचन्दों को उनके कर्मों से आसानी से पहचाना जा सकता है और हमारा धर्म है कि खुद के खिलाफ़ होने वाली साजिश का हिस्सा ना बनें, निजी स्वार्थ जातिवाद आदि के कारण अपने दुश्मन को ताकतवर बनाकर अपने ही पैरों पर कुल्हाड़ी मारना बुद्धिमानी की श्रेणी में नहीं आता।

पूरा इतिहास छान मारिए और बताइए ये मुगल या कोई भी इस्लाम को मानने वाला किसी भी देश, किसी धर्म या किसी व्यक्ति के लिए वफ़ादार रहे हों?

फ़िर ये कांग्रेस, सपा, बसपा के भी कैसे हो सकते हैं? ये बात उनको भी समझ में आ जाएगी जब बात उनके घर तक आएगी, वो तो सत्ता के स्वार्थ में सब कर रहे हैं लेकिन हम और आप तो आज़ाद हैं, भूल जाइए सभी स्वार्थ और साथ दीजिए हर उस इंसान का जो सिर्फ़ आपका ही नहीं बल्कि आपके धर्म के हर इंसान की सुरक्षा की गारंटी है।

CAB के खिलाफ़ होने वाले प्रदर्शन मेरे द्वारा लिखे गए एक एक शब्द की सच्चाई बयाँ कर रहे हैं।

धन्यवाद मोदी जी
धन्यवाद मोटा भाई
धन्यवाद पुष्पेन्द्र कुलश्रेष्ठ जी

मेरे जैसे लाखों हिन्दुओं को जगाने के लिए, उनको षड्यन्त्र से बचाने के लिए, हर हिंदू को हिंदू होने का एहसास कराने के लिए.🕉🚩

Translate »
क्रान्ति न्यूज लाइव - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल