अवैध संबंध बने हत्या के कारण, पुलिस ने किया अमित हत्याकांड का खुलासा

ऐजाज हुसैन ब्यूरो चीफ उत्तराखंड

हल्द्वानी। अमित हत्याकांड को अश्लील मैसेज व कारोबार की रंजिश के चलते अंजाम दिया गया था। पुलिस ने इस मामले में हत्या के आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है और उसकी निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त तमंचा व खाली कारतूस बरामद कर लिया गया है। पुलिस ने हत्यारोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उसे जेल के लिए भेज दिया है।
बताते चलें कि सलड़ी के पास होटल चलाने वाले काठगोदाम चांदमारी निवासी 32 वर्षीय अमित कुमार पुत्र मंगल कुमार सिंह की 24 दिसंबर की देर शाम घर के पास ही गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में हत्यारोपी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की कई टीमें लगी हुई थी। पुलिस ने काफी प्रयासों के बाद हत्यारोपी को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की। आज रविवार को पुलिस बहुदेशीय भवन के सभागार में पत्रकारों से वार्ता करते हुए अपर पुलिस अधीक्षक अमित श्रीवास्तव ने बताया कि पुलिस ने घटनास्थल व आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली, लेकिन आरोपी का चेहरा धुंधला दिखने के चलते पुलिस को उस तक पहुंचने में समय लगा। इस आधार पर पुलिस ने हरीश को गौला बाईपास के पास से गिरफ्तार कर लिया। मृतक अमित हत्यारोपी हरीश पन्त की पत्नी के मोबाइल में अश्लील मैसेज किया करता था। जिसकी भनक लगने पर हरीश ने अपनी पत्नी को समझाने के साथ ही अमित को ठिकाने लगाने की प्लानिंग बनानी शुरू कर दी। हत्यारोपी ने पुलिस को बताया कि वह पूर्व में मृतक के साथ होटल का कारोबार कर चुका था। बाद में कारोबार में मनमुटाव व पारिवारिक रंजिश के चलते दोनों अलग हो गये थे। हरीश के मुताबिक उसने 6 से 7 दिनों तक अमित का पीछा कर उसकी रेकी की। घटना को अंजाम देने से पूर्व भी वह दो-तीन बार मृतक के रेस्तरां में मास्क लगाकर गया था। लेकिन वहां मृतक अमित के साथ उसके पिता के मौजूद होने के चलते वह उसकी हत्या नहीं कर पाया। इसका कारण आरोपी ने उसके पास एक ही गोली होना बताया। उसने बताया कि रैकी के आधार पर 24 दिसम्बर की रात जब अमित अपना होटल बंद कर घर लौट रहा था इसी बीच उसके घर के समीप ही उसने अंधरे का फायदा उठाते हुए अमित के सीने पर 315 बोर के तमंचे से गोली मार दी और घटना स्थल से फरार हो गया। अमित मौके पर ही ढ़ेर हो गया। पूछताछ में हत्यारोपी ने बताया कि हत्या को उसने सोची समझी साजिश के तहत अंजाम दिया। वह घटना वाले दिन घर से स्वेटर पहनकर निकला था और कुछ दूरी पर जैकेट व मास्क लगाकर घटना को अंजाम देने गया। मंसूबे में कामयाब होने पर उसने जैकेट नहर में बहा दी। इतना ही नहीं उसने वारदात को अंजाम देने के लिए अपनी बाइक भी घटनास्थल से दूर खड़ी कर दी थी। वर्तमान में हल्द्वानी की फैमिली कोर्ट में चपरासी के पद पर तैनात हत्यारोपी ने घटना को अंजाम देने में प्रयुक्त तमंचा बाजपुर से खरीदा था। आरोपी के जुर्म कबूल लेने के बाद पुलिस ने उसके खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर न्यायालय में पेश किया। जहां से उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है।

Translate »
क्रान्ति न्यूज लाइव - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल