मासूम बच्ची से रेप और हत्याकांड का फरार आरोपी गिरफ्तार

ऐजाज हुसैन ब्यूरो चीफ उत्तराखंड

हरिद्वार। मासूम बच्ची से दुष्कर्म और हत्या के दूसरे आरोपी राजीव कुमार को पुलिस ने सुल्तानपुर के पास से आज रविवार को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक आरोपी नेपाल भागने की फिराक में था। शनिवार को आरोपी के छोटे भाई गौरव कुमार को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय ने आरोपी राजीव कुमार की गिरफ्तारी की पुष्टि की है। आरोपी के भाई से मिली जानकारी के आधार पर सीओ मंगलौर अभय प्रताप सिंह के नेतृत्व में गठित पुलिस टीम ने राजीव कुमार को दबोच लिया है और अब उसे हरिद्वार लाया जा रहा है। वहीं घटना के मुख्य आरोपी को पुलिस द्वारा पहले दिन ही गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। बताते चलें कि हरिद्वार नगर कोतवाली क्षेत्र में शनिवार को 11 साल की मासूम बच्ची गायब हो गई थी। उसी रात पुलिस ने बच्ची का शव एक मकान से बरामद कर लिया था। मकान कपड़ा व्यापारी राजीव कुमार का है। जहां उसका भांजा रामतीरथ यादव दो साल से रह रहा था। बच्ची की हत्या से पहले उसके साथ दुष्कर्म की पुष्टि हुई थी। पुलिस ने रामतीरथ यादव को मौके से गिरफ्तार कर लिया था जबकि राजीव कुमार फरार हो गया था। बच्ची के पिता की तहरीर पर पुलिस ने रामतीरथ यादव और राजीव कुमार के खिलाफ हत्या, दुष्कर्म, अपहरण का मुकदमा दर्ज किया है। धर्मनगरी में पांचवीं में पढ़ने वाली मासूम बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी। तब से ही आरोपी की गिरफ्तारी के लिए तमाम लोग प्रदर्शन कर रहे हैं और लोग गुस्से में हैं। लोग आरोपियों को सख्त से सख्त सजा दिलाने की मांग कर रहे हैं।
वहीं पुलिस जांच में पता चला कि आरोपी की आखिरी लोकेशन रुड़की में मिली है। इसके बाद से मोबाइल बंद है। आरोपी की गिरफ्तारी के लिए एसओजी समेत आठ टीमें बनाई गई, टीमें हरिद्वार, देहरादून और प्रदेेश के बाहर भी दबिश दे रही थी। डीजीपी अशोक कुमार ने 20 हजार का ईनाम घोषित किया था। साथ ही उन्होंने कहा कि किसी भी सूरत में आरोपी बच नहीं पाएंगे। जबकि विधानसभा में विपक्षी दलों ने आरोपी की शीघ्र गिरफ्तार और फांसी की सजा दिलाने की मांग की है। साथ ही दुष्कर्म और हत्याकांड की घटना को लेकर देहरादून और हरिद्वार में विभिन्न राजनैतिक पार्टियों के नेताओं द्वारा कैंडल मार्च निकालकर प्रदेश की कानून व्यवस्थाओं पर सवाल उठाये गये।

Translate »
क्रान्ति न्यूज लाइव - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल