एसएसआई ने बाजपुर में दर्ज कराई किसान आंदोलन में शामिल होने जा रहे किसानों के खिलाफ एफआईआर

ऐजाज हुसैन ब्यूरो चीफ उत्तराखंड

बाजपुर। किसान आंदोलन को समर्थन देने दिल्ली जा रहे किसानों द्वारा बैरिकेडिंग तोड़ने तथा पुलिसकर्मियों से अभद्रता करने के माामले में बाजपुर पुलिस ने एसएसआई देवेन्द्र गौरव की तहरीर के आधार पर 1000-1500 किसानों के खिलाफ धारा 147, 148, 332, 353, 188, 269 भादवि, 51 बी आपदा प्रबंध अधिनियम 2005 तथा 7 क्रिमिनल लाॅ (अमेन्डमेंट) एक्ट 1934 में मुकदमा दर्ज किया है।
बताते चलें कि केंद्र सरकार द्वारा लागू नये कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली में धरने पर बैठे किसानों को समर्थन देने के लिए क्षेत्र के हजारों किसान शुक्रवार की सुबह दिल्ली जा रहे थे। पुलिस ने उन्हें जगह-जगह रोकने की कोशिश की लेकिन सितारगंज में किसानों ने ट्रैक्टर चढ़ाकर बैरिकेडिंग तोड़ दी जिसमें झनकईया थानाध्यक्ष, एसएसआई और एक कांस्टेबल घायल हो गया।
वहीं सिसईखेड़ा में बैरिकेडिंग तोड़कर आए ट्रैक्टर-ट्राॅली से नानकमत्ता के थानाध्यक्ष कमलेश भट्ट के दाहिने हाथ और बायें पैर में चोट लग गई। नानकमत्ता में झड़प के दौरान थानाध्यक्ष की वर्दी फट गई। बाजपुर में भी बैरिकेडिंग तोड़कर किसानों के 400 वाहनों का जत्था दिल्ली कूच कर गया। इसके अलावा कई जगहों पर पुलिस के रोके जाने पर किसान अपने वाहन छोड़कर पैदल ही चल दिए। काशीपुर में भी किसानों ने पुलिस पर ट्रेक्टर चढ़ा दिया जिसमें एक एसआई बाल-बाल बचा। जिसके बाद पुलिस ने कड़ा रुख अपनाते हुए 1000-1500 किसानों पर मुकदर्मा दर्ज किया है।

Translate »
क्रान्ति न्यूज लाइव - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल