पंजाब में हिंदू- सिख एकता को भंग करना चाहती है मोदी सरकार: कपिल वर्मा

शिवसेना बाला साहिब ठाकरे स्पोर्ट्स विंग के प्रदेश प्रमुख कपिल वर्मा ने दिल्ली के सिंधु व कुंडली बॉर्डर पर काले खेती कानूनों को लेकर आंदोलन के रहे किसानों का समर्थन करते हुए तीनों कानूनों को रद्द करने की मांग की।
आंदोलन कर रहे किसानों के साथ एकजुटता दिखाते हुए प्रदेश प्रमुख कपिल वर्मा ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार किसान आंदोलन के जरिए पंजाब की हिन्दू – सिख एकता को भंग करना चाहती है, क्यूंकि भाजपा की मंशा अब शिरोमणि अकाली दल से अलग होकर पंजाब की राजनीति में दाखिल होने की है।देश में जहां भी भाजपा सत्ता है वहां लोगों को जाति और धर्म में बांटा हुआ है।जो लोग किसानों की स्टेजों को अलग एजेंडों के लिए इस्तेमाल कर रहे है वे भाजपा के एजेंट है।देश में किसानों के आंदोलन को बदनाम करने के लिए मोदी सरकार द्वारा उनकी आंदोलन में घुसपैठ करवाई जा रही है।
उन्होंने कहा कि मोदी सरकार की शह पर किसी भी शरारती तत्व को किसानों के आंदोलन को हाईजैक नहीं करने दिया जाएगा।उन्होंने सभी किसान जत्थेबंदियों को केंद्र सरकार की साजिश से सावधान रहने के प्रति सचेत किया।।

One thought on “पंजाब में हिंदू- सिख एकता को भंग करना चाहती है मोदी सरकार: कपिल वर्मा

Comments are closed.

Translate »
क्रान्ति न्यूज लाइव - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल