Sex Survey: दुनिया बदल गई, भारतीय नहीं!

सेक्स को लेकर भारतीय लोगों के सीक्रेट्स इंडिया टुडे का सेक्स सर्वे पिछले 17 सालों से देश के सामने लाता आ रहा है. और इस बार भी इंडिया टुडे सेक्स सर्वे 2019 ऐसे ऐसे खुलासे कर रहा है जिसके बारे में जानकर आप हैरान हो सकते हैं.

सेक्स के मामले में भारत पहले से काफी बदल गया है. कहना गलत नहीं होगा कि इसका श्रेय इंटरनेट और मोबाइल फोन को जाता है. आज सेक्स से जुड़ी इंसान की ऐसी कोई फैंटसी नहीं है जो इंटरनेट पर उपलब्ध न हो. और फ्री इंटरनेट ने तो रही सही झिझक भी तोड़ दी. शहर हो या गांव सेक्स के मामले में सब फॉर्वर्ड हैं.

kranti news with India Today Sex Survey 2019 की ये हैं कुछ खास बातें-

* भारत में पहली बार सेक्स करने की उम्र पहले से कम हो गई है. 2003 में 8 प्रतिशत उत्तरदाताओं का कहना था कि उन्होंन 18 साल की उम्र से पहले पहली बार सेक्स किया था, जबकि इस बार 33 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने माना कि पहली बार सेक्स का अनुभव उन्हें टीनएज यानी किशोरावस्था में हो गया था.

* तीन चौथाई से ज्यादा उत्तरदाताओं का कहना है कि वो नियनित रूप से या कभी-कभी पोर्न देखते हैं. इनमें से 85% पुरुष हैं और 71% महिलाएं.

* 48% पुरुष पेड सेक्स की बात स्वीकारते हैं जबकि पेड सेक्स को स्वीकार करने वाली महिलाएं केवल 3% ही हैं.

* ज्यादातर लोग यानी 89% लोग सेक्स के दौरान तस्वीरें लेने के खिलाफ हैं.

* 74.4% लोग थ्रीसम के खिलाफ हैं. जबकि 14-29 साल के लोग रोल प्ले, थ्रीसम, आदि चीजों को लेकर ज्यादा खुले विचार रखते हैं.

* सेक्स को लेकर भले ही लोग खुल गए हों लेकिन मानसिकता पुरानी ही है. वर्जिनिटी पर 53% लोगों(महिला व पुरुष) का कहना है कि वर्जिनिटी उनके लिए महत्वपूर्ण है. ये संख्या छोटे शहर में रहने वाले लोगों में ज्यादा थी. अहमदाबाद और जयपुर के 82 और 81 प्रतिशत लोगों ने वर्जिनिटी को अहम माना.

* 62% पुरुषों और 58% महिलाओं ने माना कि वो अपनी सेक्स लाइफ से संतुष्ट हैं.

* देश के ज्यादातर लोग 10 में से 9 लोगों का मानना है कि वो opposite gender के साथ ही sex करने में सहज हैं.

* 60% लोग अंधेरे में सेक्स करना पसंद करते हैं.

* 26% लोगों ने कहा कि उन्होंने अपने पार्टनर को धोखा देने के बारे में फैंटसी की थी. परुष (28%) महिला (24%).

* 4 में से 1 व्यक्ति ने ऑफिस में सेक्स की कल्पना की थी.

Translate »
क्रान्ति न्यूज लाइव - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल