कई बड़े कंपनी के शहद में मिलावट का खुलासा, पतंजलि-डाबर ने किया इन्कार, कहा- छवि खराब करने की कोशिश

CSE की ओर से शहद की मिलावट को लेकर एक रिपोर्ट जारी की गई थी, जिसमें बताया गया था कि आजकल कई बड़े ब्रांड शहद में मिलावट कर रहे हैं. इस खबर का खंडन करते हुए डाबर और पतंजलि ने कहा कि यह दावे प्रेरित लगते हैं और इनका लक्ष्य कंपनी की छवि को खराब करना है. इसके अलावा कंपनियों ने कहा कि उनकी तरफ से बेचे जा रहे शहर पूरी तरह से असली हैं. इसके साथ ही उनको प्राकृतिक चीजों से तैयार किया जाता है और इसमें किसी भी तरह की चीनी की मिलावट नहीं की जाती है.

कंपनी ने जानकारी देते हुए बताया कि हमारे प्रोडक्ट पूरी तरह से शुद्ध हैं. FSSAI के सभी नियमों का पालन किया जा रहा है. डाबर के प्रवक्ता ने इस रिपोर्ट पर बोलते हुए कहा कि इस रिपोर्ट का लक्ष्य हमारे ब्रांड की छवि को खराब करना है. पतंजलि आयुर्वेद के मैनेजिंग डारेक्टर आचार्य बालकृष्ण ने भी कहा कि यह सिर्फ हमारे प्रोडक्ट को बदनाम करने की साजिश है, जिससे प्रोसेस्ड शहद का प्रचार किया जा सके. इसके अलावा उन्होंने कहा कि हमारे यहां कैपिटल और मशीनरी की मदद से 100 फीसदी शुद्ध शहद बनाया जाता है. इसके अलावा FSSAI के सभी मानदंडों को पूरी सफलता के साथ पास किया जाता है.

CSE की ओर से बुधवार को एक रिपोर्ट जारी की गई थी, जिसमें CSE की महानिदेशक सुनीता नारायण ने बताया कि भारतीय बाजारों में बिक रहे शहद के लगभग सभी ब्रांडों में जबरदस्त तरीके से शुगर सिरप की मिलावट हो रही है. आपको बता दें इसी संगठन ने वर्ष 2003 और 2006 के दौरान सॉफ्ट ड्रिंक में कीटनाशक की उपस्थिति का खुलासा किया था.

Translate »
क्रान्ति न्यूज लाइव - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल