ट्रेनें चलने से कोई शादी तो कोई धार्मिक आयोजन के लिए गया गांव

जालंधर, (विशाल)- ट्रेनें चलने से आम लोगों को बड़ी राहत मिली है। कई महीनों के बाद लोग ट्रेन से अपने घरों के लिए ट्रेन से रवाना हुए। 23 वर्षीय नेहा परिवार के साथ गोरखपुर में अपनी चचेरी बहन के विवाह में शामिल होने गई। उसने कहा कि ट्रेनें बंद होने के कारण गांव जाने का प्रोग्राम रद कर दिया था। अब ट्रेनें शुरू हुई तो शादी में शामिल हो सकते हैं।बिहार के जिला छपरा निवासी 38 वर्षीय संजीव कुमार कहते हैं कि बिङ्क्षल्डग निर्माण में ठेकेदारी करता है। छठ के मौके पर गांव नहीं जा सका था तो अब धार्मिक आयोजन के कारण गांव जा रहा है। फैक्ट्री में लेबर का काम करते अरङ्क्षवद मिश्रा का कहना है कि आठ महीने से ट्रेनें बंद होने के कारण गांव नहीं जा पाया था। गांव में बीमार मां अस्पताल में दाखिल है। उन्हें देखने के लिए ही गांव जा रहा हूं।

One thought on “ट्रेनें चलने से कोई शादी तो कोई धार्मिक आयोजन के लिए गया गांव

Comments are closed.

Translate »
क्रान्ति न्यूज लाइव - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल