महिला किसानों के उद्यमिता विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित

दिव्य प्रकाश तिवारी ‘चमन’ जिला जुर्म संवाददाता

दिनांक २३ नवंबर 2020 को ग्राम पंचायत सेखुई कला के प्राथमिक विद्यालय में जिला बलरामपुर में तराई एनवायरमेंट अवेयरनेस समिति एवं यूरोपियन यूनियन एवं चाइल्डफंडके साझा प्रयास के द्वारा महिला किसानों का उद्यमिता विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया
प्रशिक्षण की शुरुआत प्रार्थना, आए हुए प्रतिभागियों का स्वागत एवं परिचय से किया गया, प्रशिक्षण का उद्देश्य वह अपने गुणों को पहचान सके और स्वयं के कौशल का विकास कर सकें महिला किसान को उसके क्षमता के अनुसार उसे‌ उद्यमी के रूप में तैयार करना और नेतृत्व करने की क्षमता को विकसित करना है,
प्रशिक्षण ‌ मैं विष्णु कुमार श्रीवास्तव द्वारा पूछा गया कि आप उद्यम और ‌ उद्यमिता से आप क्या समझते हैं ,
उद्यमिता क्या है, विष्णु कुमार श्रीवास्तव द्वारा पीपीटी के माध्यम से बताया गया कि किसी उद्यम को शुरू करने विकसित करने एवं प्रबंधन करने तथा संचालित करने की प्रक्रिया उद्यमिता कहलाती है साधारण भाषा में इसका मतलब व्यापार होता है ,इसमें एक व्यक्ति या व्यक्तियों का समूह अपने विचार को अवसर को व्यापार में बदल देता है, आलोक जी एवं शालिनी श्रीवास्तव उद्यमिता के स्तंभ के बारे में बताया कि द्वारा बताया गया कि किसी भी व्यवसाय को सफल रूप से उस व्यक्ति का सोच विचार उसके अंदर ज्ञान कौशल एवं अनुभव एवं कठिन परिश्रम का होना आवश्यक है, उद्यमी क्या होता है, आलोक जी द्वारा बताया गया कि ऐसा व्यक्ति जो कोई भी उद्यम शुरू करते हैं उद्यम कहलाते हैं ग्राहक की जरूरत के अनुसार कोई उत्पाद या सेवा का उद्योग शुरू करने का जोखिम लेता है वह उद्यमी कहलाता है चाहे महिला हो या पुरुष, तत्पश्चात उन्हें उद्यम के प्रकार के बारे में बताया गया, कि उद्यमी के प्रकार ‌ एक सफल उद्यमी के गुण, क्या क्या होते हैं के बारे में प्रशिक्षण में चर्चा की गई और उन्हें बताया गया कि किसी भी उद्यम स्थापित करने के लिए जोखिमों का सामना करना पड़ता है तत्पश्चात ही एक सफल उद्यमी के रूप में उसकी पहचान बन सकती है प्रशिक्षण में कछुआ और खरगोश की कहानी के द्वारा भी बताने का प्रयास किया गया सफल उद्यमी के क्या-क्या गुण होते हैं, व्यवसाय के लिए पूंजी की वित्तीय व्यवस्था एवं संसाधन की आवश्यकता होती है उसकी व्यवस्था हम कैसे कर सकते हैं उदाहरण के रूप में बताया गया कि समूह के माध्यम से बैंक से कर्ज लेकर आपसी लेनदेन कर गैर सरकारी संगठनों द्वारा सहयोग सरकार की विभिन्न योजनाओं से अनुदान प्राप्त कर उद्यम स्थापित कर सकते हैं।
एक लघु फिल्म भी दिखाई गई जिसमें एक छोटे से समूह शुरुआत कर बड़े पैमाने पर कैसे बढ़ सकते हैं,
विष्णु कुमार श्रीवास्तव द्वारा बताया गया कि हम अपने संचार के माध्यम उन लोगों तक कैसे पहुंचाएं इस विषय में भी पूर्ण जानकारी होना भी जरूरी है , तत्पश्चात एक बिजनेस प्लान के बारे में बताया गया की एक छोटे से चाय की दुकान करने के लिए हमें क्या करना चाहिए और उसमें पूंजी की कितनी आवश्यकता होगी और उससे कितना आय प्राप्त होगा और उसमें क्या-क्या संसाधन की आवश्यकता होगी। प्रशिक्षण मैं सेखुई कला से आई हुई महिला किसान समूह , कोयलिया जेवनार एवं बेलवा सुल्तानपुर से महिला 35 किसान समूह कीअध्यक्ष उपाध्यक्ष उपस्थित रही एवं तराई इन्वायरमेंट के समुदाय मित्र श्री आलोक मिश्र, , विष्णु कुमार श्रीवास्तव एवं पल्लवी मिश्र , शालिनी श्रीवास्तव , दिव्य प्रकाश तिवारी चमन जी उपस्थित रहे ।

Translate »
क्रान्ति न्यूज लाइव - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल