ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन 90 फीसदी प्रभावी ,जल्द मिलेगी कोरोना को मात

कोरोना: कोवीशील्ड वैक्सीन के 4 करोड़ डोज तैयार, तीसरे फेज के ट्रायल के लिए  1600 लोगों का रजिस्ट्रेशन पूरा | Corona 4 crore doses of KoviShield vaccine  ready

ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन की कोविड-19 से बचाने की औसत सफलता दर 70 फीसदी रही है। हालांकि अलग-अलग डोज के हिसाब से सफलता 62 से 90 फीसदी तक रही। एस्ट्राजेनेका ने एक बयान जारी कर इसकी जानकारी दी है। भारत के लिए यह राहत भरी खबर है, क्योंकि भारत में सीरम इंस्टीट्यूट इसी वैक्सीन के उत्पादन में लगा हुआ है।

वहीं, सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने सोमवार को कहा कि वह इस बात से बेहद खुश हैं कि कोवीशील्ड वैक्सीन लोगों को कोरोना वायरस से 90 फीसदी तक सुरक्षा प्रदान करेगी। एस्ट्रोजेनेका द्वारा जारी बयान के अनुसार, ब्रिटेन और ब्राजील में लेट-स्टेज परीक्षणों के परिणाम के अनुसार, कोरोना वैक्सीन मरीजों पर 90 फीसदी तक प्रभावी रही। इस दौरान पहली बार में मरीज को इसकी आधी खुराक दी गई और फिर करीब एक महीने बाद इसे पूरी खुराक के रूप में दिया गया।
 

परिणाम के अनुसार, जब इस वैक्सीन की दो खुराकों को एक-एक महीने के अंतराल पर मरीज को दिया गया, तो यह 62 फीसदी तक प्रभावी रही। इस तरह इन दोनों परिणामों के संयुक्त विश्लेषणों से पता चलता है कि यह वैक्सीन औसतन 70 फीसदी तक प्रभावी है। 

अदार पूनावाला ने ट्वीट कर कहा, मुझे यह सुनकर खुशी हुई है कि कम लागत वाली और जल्द ही व्यापक रूप से उपलब्ध होने वाली कोविड-19 वैक्सीन ‘कोवीशील्ड’ 90 फीसदी तक प्रभावी है। इस पर आगे का विवरण, आज शाम प्रदान किया जाएगा।  

बता दें कि दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन निर्माता कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के सहयोग से विकसित होने वाली वैक्सीन की लाखों खुराक पहले ही निर्मित कर ली है। 

Translate »
क्रान्ति न्यूज लाइव - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल