दो से तीन गुना तक बढ़ाए जा सकते हैं पंचायत चुनाव के मतदेय स्थल

beauro report – pradeep mishra ;-

पंचायत चुनाव

बलरामपुर। कोरोना काल में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव कराने की चुनौतियां काफी बढ़ गई हैं। वोटिंग कराने के लिए एक मतदान केंद्र पर सिर्फ छह बूथ ही बनाए जा सकेंगे। एक बूथ पर 1200 की जगह इस बार 800 वोटरों के मतदान कराने की व्यवस्था बनाए जाने की संभावना है। पंचायत चुनाव के मतदेय स्थलों में दो से तीन गुना तक बढ़ोत्तरी हो सकती है। नए पोलिंग केंद्र बनाने के साथ पुरानों में बूथों की संख्या बढ़ाना चुनौती बन गई है। नए पोलिंग बूथ बनाने में जिम्मेदारों की परेशानी बढ़ गई है।

गौरतलब हो कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की मतदाता सूची का पुनरीक्षण कार्य कराया जा रहा है। निर्वाचन आयोग के निर्देश पर 15 सितंबर से मतदाता सूची में नाम बढ़ाने की प्रक्रिया गतिमान है। 930 बीएलओ ने 12 नवंबर तक घर-घर जाकर गणना व सर्वेक्षण कार्य पूरा कर लिया है और ऑनलाइन आवेदन पत्रों की घर-घर जाकर जांच भी की जा चुकी है।
13 नवंबर से पांच दिसंबर तक ड्राफ्ट नामावलियों की कंप्यूटरीकृत पांडुलिपि तैयार की जाएगी। ड्राफ्ट मतदाता सूची का छह दिसंबर को प्रकाशन किया जाएगा। छह से 12 दिसंबर तक ड्राफ्ट के रूप में प्रकाशित निर्वाचक नामावली की निरीक्षण किया जाएगा। 13 से 19 दिसंबर तक दावे व आपत्तियों का निस्तारण कराया जाएगा।
20 से 28 दिसंबर तक दावे और आपत्तियों के निस्तारण के बाद पूरक सूचियों की पांडुलिपियां तैयार करके उन्हें मूल सूची में यथा स्थान समाहित किया जाएगा। 29 दिसंबर को जन सामान्य के लिए मतदाता सूचियों का अंतिम प्रकाशन कर दिया जाएगा। प्रकिया पूरी होने के बाद जिले के 800 ग्राम पंचायतों, 997 क्षेत्र पंचायतों व 40 जिला पंचायतों के क्षेत्रों में आरक्षण की कार्रवाई पूरी कराई जाएगी। इसके बाद त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का बिगुल बजेगा। इस बार त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव कराना काफी चुनौतीपूर्ण होगा।
कोविड-19 महामारी के चलते पोलिंग बूथों पर भीड़भाड़ न बढ़े इसके लिए निर्वाचन आयोग की तरफ से पोलिंग बूथों में बढ़ोत्तरी की जा सकती है। कोविड-19 महामारी की चुनौती से निपटने के लिए एक मतदान केंद्र पर सिर्फ छह बूथ बनाए जाएंगे। एक बूथ पर 1200 की जगह 800 वोटरों के मतदान की व्यवस्था कराई जा सकती है।
त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव 2015 में जिले के सभी नौ ब्लॉकों में 101 न्याय पंचायतों में पर्यवेक्षकों को तैनात किया गया था जिनकी निगरानी में 801 ग्राम पंचायतों, 10053 ग्राम पंचायत सदस्यों, 997 क्षेत्र पंचायतों व 40 जिला पंचायत क्षेत्रों के चुनाव कराए गए थे। जिले में 927 मतदान केंद्रों पर 2037 पोलिंग बूथ बनाए गए थे। 2015 चुनाव में कुल 1478743 वोटर थे। इस बार एक ग्राम पंचायत की संख्या घट गई है।
अब कुल 800 ग्राम पंचायतों में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव कराए जाएंगे। इस बार 449 मतदेय स्थल बढ़ाए गए हैं अब जिले में 2486 मतदेय स्थल हो गए हैं।जिले में अब तक 34315 वोटर भी बढ़ गए हैं। वोटरों की कुल संख्या अब 1513058 तक हो चुकी है।
अभी तक पोलिंग बूथ बढ़ाने का नहीं मिला निर्देश
निर्वाचन आयोग की तरफ से त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में अभी तक पोलिंग बूथ बढ़ाने के संबंध में कोई निर्देश नहीं मिला है। कोविड-19 महामारी को ध्यान में रखकर लोगों की सुरक्षा के लिए आयोग की तरफ से जारी निर्देश का पालन किया जाएगा।

  • कृष्णा करुणेश, डीएम/जिला निर्वाचन अधिकारी
Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल