लापरवाही पड़ सकती है आप पर भारी पटाखे चलाते समय रखे कुछ बातों का ख्याल

जालंधर (विशाल ) जिला प्रशासन व डाक्टरों ने लोगों को पर्यावरण सरंक्षण को मद्देनजर रखते हुए दीवाली माने की अपील की है।कि पटाखे चलाने में लापरवाही शरीर के अंगों को नकारा बना सकती है। बड़ापन दिखाने के लिए हाथ में पकड़ अनार व बड़े पटाखे चलाने से उंगलियों की नाडि़यों व छोटी-छोटी हडि्डयों के चिथड़े उड़ जाते हैं। नतीजतन अधिकांश हाथ काम करने लायक ही नही रहता।

सावधानियां

  • पटाखों को हाथ में पकड़ कर न जलाएं।
  • जलाने के बाद अगर पटाखा न जले, तो तुरंत यह देखने की कोशिश न करें कि वह क्यों नहीं जला?
  • पटाखों के भंडार को पटाखे जलाने के स्थान के पास न रखें।
  • छोटे बच्चों को स्वयं पटाखे चलाने को न दें।
  • पटाखों को कभी भी जेब में न रखें।
  • एक साथ कई पटाखों को जलाने की कोशिश न करें।
  • पटाखों पर झुककर उन्हें नहीं चलाना चाहिए।
  • पटाखों को कभी भी टीन के डिब्बे या कांच की बोतल में रखकर न जलाएं।

सुझाव

-मोमबत्ती द्वारा ही पटाखों को उचित दूरी पर रखकर जलाएं।

-पानी की 2-3 बाल्टियों को पटाखे जलाने के स्थान के पास रखें।

-पटाखे चलाते समय केवल सूती वस्त्र ही पहनें।

-राकेट को किसी पेड़ के नीचे या किसी अवरोध के पास न जलाएं।

-तेज आवाज वाले पटाखे जलाते समय कान में रुई डालनी चाहि

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल