हड़ताल को लेकर जालंधर डीसी दफ्तर में सौंपा ज्ञापन

जालंधर (विशाल) ट्रेड यूनियन नेताओं और कर्मचारियों की फेडरेशन के पदाधिकारियों ने बुधवार को राज्य सरकार को हड़तात का नोटिस भेजा है। राष्ट्रीय ट्रेड यूनियन, केंद्र सरकार व राज्य सरकार के कर्मचारियों की फेडरेशन के आह्वान पर 26 नवंबर को देशव्यापी हड़ताल की तैयारी है। बुधवार को इस संबंध में डीसी के जरिये राज्य सरकार को नोटिस दिया गया।जालंधर में केंद्रीय ट्रेड यूनियन, मुलाजिम फेडरेशनों, सीटीयू के राम कृष्ण, इंटक के अमरीक सिंह गिल, राजेश थापा, सीआईटीयू के केवल सिंह हजारा, पीएसएसएफ के प्रदेश महासचिव तीर्थ सिंह बासी आदि सदस्यों ने डीसी दफ्तर में सुपरिंटेंडेंट को इसे लेकर ज्ञापन सौंपा। उनका कहना है कि सरकार की नीतियां आम जनता के विरोध में हैं। किसान व मजदूरों के विरोध में धक्के से पास किए गए कानूनों के विरोध में यह हड़ताल की जा रही है। इस मौके पर उनके साथ कुलदीप सिंह कोड़ा, तजिंदर सिंह, भोला प्रसाद, करनैल सिंह संधू, रतन सिंह, तरसेम माधोपुरी और गणेश भगत मौजूद थे मजदूरों के विरोध में बनाए गए कानूनों को रद किया जाएकिसान विरोधी काले कानून खत्म किए जाएंकम से कम श्रम 21 हजार रुपये प्रति महीना किया जाएसरकारी विभाग और सार्वजनिक क्षेत्रों में कर्मचारियों की प्रीमिच्योरी रिटायरमेंट संबंधी जारी फैसला तुरंत वापस लिया जाएनिजीकरण की नीति को तुरंत बंद किया जाए।पुरानी पेंशन स्कीम को बहाल किया जाए और नई को रद किया जाएमनरेगा के मजदूरों को 700 रुपये दिहाड़ी के साथ-साथ 200 दिन का काम यकीनी बनाया जाएआर्थिक रूप से कमजोर परिवारों को बिना किसी शर्त के 10 किलो अनाज प्रति महीना निःशुल्क दिया जाए।सभी विभागों में ठेके पर रखे मुलाजिमों को बिना किसी शर्त पूरे ग्रेड पर रेगुलर किया जाए। 

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल