टीडीसी को घाटे से उबारने के लिए रणनीति बदले अधिकारी : डीएम रंजना राजगुरु

ऐजाज हुसैन ब्यूरो उत्तराखंड

रूद्रपुर। तराई बीज विकास निगम की प्रबन्ध निदेशक/जिलाधिकारी उधमसिंह नगर श्रीमती रंजना राजगुरु की अध्यक्षता में निगम को घाटे से उबारने के लिए निगम के उच्चाधिकारियों के साथ बुधवार को देर सांय कलेक्ट्रेट सभागार में आवश्यक बैठक आहूत की गई। बैठक में निगम के महाप्रबंधक डा0 अभय सक्सेना ने अवगत कराया कि वर्ष 2018-19 में खरीफ और रबी की फसल के लिए जो उत्पादन किया गया था उसके अनुपात में वर्ष 2019-20 में हुए उत्पादन और भी कम है, जिस कारण टीडीसी निरन्तर घाटे में जा रही है। जिलाधिकारी श्रीमती रंजना राजगुरु ने उक्त स्थिति पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि टीडीसी का निरंतर घाटे में जाना बहुत गम्भीर विषय है, सभी अधिकारियों को अपनी-अपनी जिम्मेदारियों को समझना होगा। अधिकारी गण अपने दायित्व को समझते हुए अपनी रणनीति बदले एवं अपनी कार्यशैली में सुधार लाएं। यदि ऐसा नहीं हुआ तो आगे स्थिति और गम्भीर हो सकती है। संस्था किसी एक कि नहीं अपितु सबकी है इसको आगे लेकर जाना सबकी जिम्मेदारी है। एक योजना बना के लक्ष्य निर्धारित करें और निर्धारित किये गए लक्ष्य को निर्धारित समय में ही पूरा करें। निश्चित समय अंतराल पर अपने कार्यों की समीक्षा करते रहें जिससे तय किये गए लक्ष्य की ओर बढ़ते रहे। साथ ही किसानों को भी प्रेरित करें। जिलाधिकारी श्रीमती रंजना राजगुरु ने कड़े निर्देश दिए कि संस्था के अंदर किसी प्रकार की गुटबाजी किसी भी रूप में बर्दाश्त नहीं कि जाएगी। सभी को एक दूसरे का सहयोग करते हुए संस्था के हित में कार्य करना होगा। ऐसा न होने पर जो भी दोषी पाया गया तो उसके खिलाफ आवश्यक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। जिसका परिणाम उनके परिवार को भी प्रभावित कर सकता है इसीलिए एकजुट होकर संस्था के हित में कार्य करें। तभी परिणाम बेहतर होगा। इस अवसर पर वित्त नियंत्रक श्रीमती आभा गर्खाल, मुख्य बीज उत्पादक अधिकारी डा0 दीपक पाण्डे, अनिसुल रहमान, बीज उत्पादन अधिकारी बीसी बमेडा, उदय राज सिंह, डा0 मिहित शर्मा, डा0 वी के मिश्रा, डा0 अनिल कुमार गुप्ता, एचपीएस चौहान, कुलदीप सिंह राजपूत, नकुल जोशी व डा0 राजेश सिंह मौजूद रहे।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल