मगनरेगा स्कीम के अन्तर्गत ग्रामीण लोगों को रोज़गार मुहैया करवाने के प्रयास लगातार जारी: एडीसी विशेष सारंगल

जालंधर अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर (विकास)-कम ज़िला प्रोग्राम कोआरडीनेटर (मगनरेगा) जालंधर विशेष सारंगल ने जानकारी देते हुए बताया कि कोरोना -19 से जूझते हुए भी ज़िला जालंधर में मगनरेगा स्कीम के अन्तर्गत ग्रामीण लोगों को महात्मा गांधी मनरेगा अधीन रोज़गार मुहैया करवाने के लिए लगातार प्रयास किये जा रहे हैं।उन्होने बताया कि अब तक ज़िला में अब तक कुल 31866 परिवारों के 36390 लोगों को रोज़गार देने के लिए उनकी माँग अनुसार साल 2020 -2021 दौरान कुल 7.34 लाख मैनडेज़ जनरेट की जा चुकीं हैं जबकि पिछले साल 2019 -20 दौरान कुल (12 महीनों) में 7.62 लाख मैनडेज़ जनरेट किये गए थे।उन्होने आगे जानकारी देते हुए बताया कि साल 2020 -21 दौरान ज़िले के 890 गाँवों में कुल 2329 अलग -अलग विकास कार्य चलाए जा रहे हैं जिन में माडल खेल मैदान, प्लांटेशन, छप्पड़ा का नवीनीकरन, थापर माडल, केटल शैड, नरसरियों की निर्माण, पार्कों की निर्माण, सोक पिट, सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट आदि प्रमुख हैं। उन्होने कहा कि इन विकास कार्यलय के द्वारा गाँवों की रूपरेखा बदली जा रही है।उन्होने बताया कि इन विकास कार्यों पर पिछले पाँच महीनों के दौरान कुल 21.29 करोड़ रुपए खर्च किए जा चुके हैं, जिस में 19.27 करोड़ लेबर पर और 2.01 करोड़ मटीरियपर ख़र्च किये गए हैं, जोकि पिछले साल 12 महीनों के दौरान किये गए ख़र्च की अपेक्षा ज़्यादा है। पिछले साल 2019 -20 दौरान कुल 20.90 करोड़ फंड खर्च किए गए थे।उन्होने कहा कि इस मुश्किल घड़ी में मगनरेगा स्कीम कम आमदन वाले परिवारा की परेशानी को दूर करने के लिए काफ़ी सहायक सिद्ध हुई है। ज़िला प्रशासन ने जहाँ कोरोना महामारी से निपटने के लिए लगातार प्रयास जारी रखे वही लोगों को रोज़गार मुहैया करवाने के लिए लगातार वचनबद्ध है और आने वाले पाँच महीनों के दौरान अधिक से अधिक जोब् कार्ड होलडरा को रोज़गार मुहैया करवाया जायेगा और गाँवों में नये विकास कार्य करवाए जाएंगे

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल