पति की दीर्घायु की कामना को लेकर रखे करवाचौथ व्रत की सुहागिनें ने की शुरुआत

जालंधर (विशाल ) – पति की दीर्घायु की कामना को लेकर रखे जाते करवाचौथ का व्रत की शुरुआत बुधवार को सुहागिनों ने सूर्यास्त होने से पहले सरगी खाकर की। इस दौरान तड़के सुहागिनों ने घर में बड़े व बुजुर्गों द्वारा दिए गए खाने का सेवन किया। इसके उपरांत मंदिरों में भोजन व फल के साथ दक्षिणा देकर व्रत की विधिवत शुरुआत की। व्रत रखने वाली सुहागिनें दिन भर निराहार तथा निर्जल रहकर धार्मिक रस्में पूरी करेंगी।
त्योहारी सीजन के बीच महिलाओं के लिए सबसे महत्वपूर्ण माने जाते करवाचौथ व्रत को लेकर बाजारों में पिछले कई दिनों से खरीदारी का दौर जारी था। जिससे कोरोना वायरस महामारी के चलते सुने हुए बाजारों में भी रौनक लौट आई थी। महिलाओं ने ड्रेस से लेकर श्रृंगार सामग्री तथा मिठाइयों से लेकर फलों की जमकर खरीदारी की। हालांकि, यह सिलसिला भैया दूज तक बरकरार रहने की संभावना है। कोरोना संक्रमण के भय के चलते सुहागिनों द्वारा शाम को व्रत कथा के लिए मंदिर ना पहुंच पाने के चलते कई मंदिरों में आनलाइन पूजा करवाने का भी प्रबंध किया गया है। जिसके तहत मंदिर के पुजारी सुहागिनों को घर बैठे वीडियो कॉल के माध्यम से व्रत कथा सुनाएंगे।

व्रत की कथा सुनने का शुभ मुहूर्त

  • दोपहर : 2 से शाम 4 बजे तक
  • शाम :  6.15 से 8 बजे तक

चंद्र उदय का समय : रात 815

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल