ऑनलाइन पोर्टल पर दर्ज करवाएं अपनी शिकायतें : डीसी  

जालंधर (विशाल)  डिप्टी कमिश्नर जालंधर घनश्याम थोरी ने जिले के लोगों से अपील की है कि वह अपनी किसी भी विभाग से संबंधित शिकायतें पंजाब सरकार की तरफ से लांच किए गए नए पोर्टल डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू.कनेक्ट.पंजाब.जीओवी.इन पर ऑनलाइन दाखिल करें ताकि इन शिकायतों का समयबद्ध तरीके से निपटारा सुनिश्चित किया जा सके।शनिवार को मुख्य सचिव विनी महाजन द्वारा विभिन्न मुद्दों पर आयोजित वीडियो काफ्रेसिंग में हिस्सा लेते हुए डिप्टी कमिश्नर घनश्याम थोरी और एसएसपी संदीप गर्ग ने कहा कि पंजाब सरकार की तरफ से लांच किया गया यह पोर्टल नागरिकों की शिकायतों के त्वरित और समयबद्ध तरीके से समाधान को सुनिश्चित करता है और सभी विभागों से संबंधित शिकायतों के लिए लोगों को एक ही डिजीटल प्लेटफार्म उपलब्ध करवाता है। उन्होंने कहा कि इस पोर्टल के लिए विभिन्न विभागों से संबंधित अधिकारियों व मुलाजिमों को ट्रेनिंग दी जा चुकी है। डिप्टी कमिश्नर ने आगे बताया कि पीजीआरएस पोर्टल सभी विभागों से संबंधित शिकायतों को निपटारे के लिए केंद्र बिंदू के तौर पर काम करेगा और लोग इस पोर्टल पर आसानी से अपनी शिकायत दायर कर सकते हैं।
उन्होंने कहा कि सभी विभागों को पहले ही इस पोर्टल पर आने वाली शिकायतों के समयबद्ध तरीके से निपटारे के निर्देश जारी किए जा चुके हैं। डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि इन आदेशों का उल्लंघन करने वाले विभागों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी क्योंकि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंदर सिंह की अगवाई में पंजाब सरकार नागरिकों की समस्याओं व शिकायतों के त्वरित निवारण के लिए वचनबद्ध है। उन्होंने  कहा कि जिले में इस पोर्टल के जरिए अब तक कुल 74 शिकायतें दाखिल हुई है जिसमें से 53 का निपटारा किया जा चुका है और बाकी लंबित शिकायतों पर कार्रवाई चल रही है।इस दौरान उद्योग व वाणिज्य विभाग की तरफ से विदेशों से आयातित पटाखों पर प्रतिबंध के बारे में जानकारी देते हुए डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि सरकार की तरफ से इस तरह के पटाखों की विक्री पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया है। अगर कोई भी व्यक्ति इन पटाखों के भंडारण और विक्री में संलिप्त पाया जाता है तो उसके खिलाफ कानून मुताबिक कड़ी कार्रवाई की जाएगी। पटाखों के भंडारण व विक्री की जांच के लिए प्रशासन की तरफ से स्पेशल स्कवायड का गठन किया गया है।  
जिले में पराली प्रबंधन व पराली को आग लगाने की घटनाओं की समीक्षा के दौरान डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि किसानों को जागरूक करने के लिए लगातार मुहिम चलाई जा रही है और उन्हें पराली जलाने से होने वाले नुकसानों के बारे में अवगत करवाया जा रहा है।  
धान खरीद की जानकारी देते हुए डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि अब तक किसानों को 48 घंटे के अंदर अदायगी के नियम के मुताबिक शत प्रतिशत पेमेंट हो चुकी है। जबकि 94 परसेंट से ज्यादा मंडियों से धान की लिफ्टिंग करवाई जा चुकी है। उन्होंने बताया कि किसानों को किसी भी तरह की परेशानी नहीं आने दी जा रही। केंद्र राज्य भर में लिफ्टिंग और पेमेंट के मामले में अग्रणी जिला है।
इस दौरान डिप्टी कमिश्नर ने जिले में कोरोना वायरस महामारी की मौजूदा स्थिति और प्रशासन की तरफ से उठाए जा रहे कदमों का ब्यौरा भी मुख्य सचिव विनी माहजन से सांझा किया। 
इस मौके पर सहायक कमिश्नर रणदीप सिंह, डीएफएससी नरेंद्र सिंह, डीएमओ मुकेश कैले, मुख्य खेतीबाड़ी अधिकारी डॉ सुरेंद्र सिंह, सिविल सर्जन डॉक्टर गुरिंदर कौर चावला व अन्य मौजूद थे।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल