लखनऊ: संविदाकर्मियों ने दी चेतावनी , वेतन न मिला तो कल से सिटी बसों का चक्का जाम

पिछले कई महीनों से वेतन नहीं मिलने से नाराज सिटी बस संविदाकर्मियों ने चक्का जाम की चेतावनी दी है। सिटी ट्रांसपोर्ट एमडी को सौंपे नोटिस में 31 अक्तूबर को बकाया वेतन नहीं मिलने पर पहली से बसों का संचालन ठप करने का अल्टीमेटम दिया है।

संविदा कर्मचारी यूनियन के अध्यक्ष राजकमल सिंह ने बताया कि कोरोना संक्रमण की वजह से लॉकडाउन हुआ और उसके बाद से लगातार संविदा चालक व परिचालकों के वेतन भुगतान को अटकाया जा रहा है। गोमतीनगर व दुबग्गा डिपो में तैनात एक हजार से अधिक कर्मचारी वेतन के लिए परेशान हो रहे हैं। उनके लिए रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है।
इतना ही नहीं परिवार चलाने के लिए उन्हें उधार तक लेना पड़ रहा है। वेतन के बाबत वे कई बार एमडी से मिले पर आश्वासन मिलने के बावजूद वेतन का भुगतान तय समय से नहीं किया जा रहा है। इस संबंध में यूनियन की ओर से एमडी को नोटिस दिया गया है।

32 रूट होंगे प्रभावित
1 नवंबर से यदि संविदाकर्मी सिटी बसों का चक्का जाम करते हैं तो शहर के 32 रूट इससे प्रभावित होंगे। वर्तमान में करीब 120 सीएनजी और 40 इलेक्ट्रिक बसों का संचालन इन रूटों पर हो रहा है। इन बसों से 18 हजार के आसपास यात्री प्रतिदिन सफर कर रहे हैं। चक्का जाम हुआ तो हजारों दैनिक यात्रियों की परेशानी बढ़ जाएगी।

मिलेगा वेतन, नहीं होगा चक्का जाम!
वहीं दूसरी तरफ सिटी ट्रांसपोर्ट के एमडी आरके मंडल ने बताया कि सिटी बस संविदा कर्मियों के वेतन भुगतान में कुछ समस्याएं आ रही हैं, जिसकी वजह से वे नाराज हैं। नगरीय परिवहन निदेशालय से बातचीत चल रही है। उम्मीद है कि सोमवार को वेतन से संबंधित धनराशि आ जाए। ऐसे में सिटी बसों का चक्का जाम नहीं होगा।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल