बहादुर बेटी कुसुम के लिए मुख्यमंत्री कार्यलय से 2 लाख की सहायता राशि जारी

जालन्धर मुख्यमंत्री कार्यालय पंजाब ने 15 वर्षीय लड़की कुसुम जिसने स्थानीय दीनदयाल उपाध्याय नगर में दो मोटरसाईकल सवार लुटेरों के हमले के बावजूद गंभीर ज़ख़्मी होने के बावजूद हौसले और हिम्मत से लुटेरों का सामना किया जिसके फलस्वरुप एक लुटेरा काबू कर लिया गया था, की हौंसलावजाई के लिए 2 लाख रुपए की सहायता राशि जारी की गई है। इससे सम्बन्धित और ज्यादा जानकारी देते हुए डिप्टी कमिश्नर जालंधर घनश्याम थोरी ने बताया कि मुख्यमंत्री कार्यलय की तरफ से 2 लाख रुपए की राशि का चैक प्राप्त कर लिया गया है और कुसुम को शुक्रवार को उसकी बहादुरी के लिये यह चैक सौंपा जायेगा। डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि कुसुम के बहादुरी भरे कारनामे पर पंजाब और जालंधर को बहुत गर्व है और यह उसकी तरफ से दिखाऐ गए बेमिसाल हौसले की प्रशंसा है जिसने लुटेरों के मंसूबों पर पानी फेर दिया। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन की तरफ से पहले ही कुसुम के नाम को राष्ट्रीय और राज्य बहादुरी अवार्ड के लिए सिफ़ारिश की जा चुकी है। वर्णनयोग्य है कि डिप्टी कमिश्नर ने ख़ुद 10 सितम्बर को कुसुम को एक लाख रुपए का चैक सौंपा था। कुसुम लाला जगत नारायण डी.ए.वी. माडल स्कूल की 8वीं कक्षा की छात्रा है और 30 अगस्त 2020 को दो मोटर साइकिल सवार लुटेरों ने उसका मोबाइल फ़ोन छीनने की कोशिश की जिसको उसके भाई ने उसे ऑनलाइन स्टडी के लिए दिया था। मोटरसाईकल सवार लुटेरों ने कुसुम पर तेजधार हथियार से हमला किया था जिस कारण उसकी कलाई पर गंभीर चोट लगी। कुसुम ने गंभीर चोट लगने के बावजूद एक लुटेरे को मोटरसाईकल से खींच कर नीचे फैंक दिया

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल