भ्रष्टाचार के मुख्य कारण और निवारण ( समाधान) के उपाय क्या हैं? (19वां भाग)।

क्रांति न्यूज चैनल ,ब्यूरो प्रमुख-कवि अनिरुद्ध कुमार सिंह.

गाजियाबाद।दि०28/10/2020. आप सभी ने 18वां भाग पढ़कर समझ लिए कि श्री रामचरित मानस एक पवित्र व महान धार्मिक ग्रंथ हैं। अब आपके सामने मैं आरक्षण के संबंध में पुनः बताने जा रहा हूं कि हमारे देश में लोगों को मुख्यत: दो प्रकार से आरक्षण दिए जा रहे हैं। सबसे पहले देश की आजादी के बाद एससी, एसटी और ओबीसी के जातियों को जाति के आधार पर आरक्षण दिए जा रहे हैं। इसके तहत चाहे धनी व्यक्ति हो अथवा गरीब -दोनों को आरक्षण सिर्फ जाति के नाम से मिल रहे हैं। दूसरी ओर सामान्य वर्ग के जातियों को आर्थिक आधार पर मात्र दस प्रतिशत आरक्षण दिए जाते हैं। इसके तहत सिर्फ गरीबों को आरक्षण दिए जाते हैं, लेकिन सामान्य वर्ग के धनी लोगों को आरक्षण बिल्कुल नहीं दिए जाते । इस प्रकार यहां यह साफ पता चलता है कि आर्थिक आधार पर सामान्य वर्ग में सिर्फ गरीब ही आरक्षण के हकदार हैं, जबकि अनुसूचित जाति, जनजाति और ओबीसी के जातियों में ग़रीब और अमीर दोनों लोग आरक्षण के लाभ प्राप्त करते हैं। क्या यह व्यवस्था देश के नागरिकों के लिए उचित है? एक तरफ तो कहा जाता है कि जातिवाद से भ्रष्टाचार बढ़ते हैं ,तो दूसरी तरफ जाति के नाम पर गरीब और अमीर लोगों को आरक्षण क्यों दिए जाते हैं?जब सामान्य वर्ग के लोगों को आरक्षण आर्थिक आधार पर दिए जा सकते हैं तो एससी, एसटी और ओबीसी के जातियों को आर्थिक आधार पर आरक्षण क्यों नहीं दिए जाते हैं? अगर अन्य वर्ग के धनी लोग जाति के नाम पर आरक्षण प्राप्त कर सकते हैं तो सामान्य वर्ग के धनी और निर्धन लोगों को भी आरक्षण मिलना चाहिए। लेकिन सामान्य वर्ग के लोगों को जाति के आधार पर आरक्षण नहीं देते हैं। इस प्रकार हमारे देश में जाति और आर्थिक आधार पर आरक्षण देकर भेदभाव किए जाते हैं। अतः हमारे देश में सभी जातियों को आर्थिक आधार पर आरक्षण दिए जाने चाहिए क्योंकि इससे भेदभाव प्रायः समाप्त किए जा सकते हैं। अतः इस विषय पर भारत और राज्य सरकार को अवश्य ध्यान देना चाहिए, जिससे हमारे देश में जाति के नाम पर सरकारी सहायता लेने में किसी प्रकार का भेदभाव नहीं होना चाहिए। लेकिन हमारे देश में सामान्य वर्ग के लोगों के साथ आरक्षण देने में भेदभाव क्यों किए जाते हैं? इस प्रश्न का उत्तर भारत सरकार को देना चाहिए। भ्रष्टाचार के मुख्य कारण और निवारण (समाधान) के उपाय क्या हैं?(18वां भाग) विशेष बाद में पढ़िएगा।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल