उधमसिंह नगर : दिनेशपुर में मिला दुर्लभ प्रजाति का लाल मूंगा खुखरी सांप

ऐजाज हुसैन ब्यूरो उत्तराखंड

रुद्रपुर (उधमसिंह नगर)। उत्तराखंड के जनपद उधमसिंह नगर के दिनेशपुर निवासी एक ग्रामीण के घर में आज अत्यंत दुर्लभ प्रजाति का लाल मूंगा खुखरी सांप पाया गया। वन विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर सांप को रेस्क्यू कर सुरक्षित उसके प्राकृत वास में छोड़ा। यह दुर्लभ प्रजाति का लाल मूंगा खुकरी उत्तराखंड में पिछले 3 माह के दौरान तीसरी बार आज फिर दिखाई दिया। इससे पहले विगत 7 अगस्त व 5 सितंबर को नैनीताल जनपद अंतर्गत लालकुआं विधानसभा क्षेत्र के खुरियाखत्ता में पाया गया था।
प्राप्त जानकारी के अनुसार आज उधमसिंह नगर जनपद के दिनेशपुर गांव निवासी दिलो मिस्त्री के घर में यह दुर्लभ सांप नजर आया। मिस्त्री ने मामले की सूचना वन विभाग को दी। सूचना पर रुद्रपुर रेंज के वन क्षेत्राधिकारी पंकज शर्मा के नेतृत्व में वन विभाग की रेस्कयू टीम तुरंत मौके पर पहुंची और इस दुर्लभ प्रजाति के लाल मूंगा खुखरी सांप को सुरक्षित रेस्क्यू कर उसके प्राकृत वास में छोड़ा।
वन क्षेत्राधिकारी पंकज शर्मा ने बताया कि यह अत्यंत दुर्लभ प्रजाति का सांप है। उन्होंने बताया इसकी लंबाई 95 सेंटीमीटर पाई गयी इस दुर्लभ प्रजाति सांप के पाया जाना पर्यावरण की दृष्टि से अच्छा संकेत है।
बताते चलें कि कि यह लाल मूंगा खुखरी सांप पहली बार 1936 में उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी क्षेत्र में रिपोर्ट हुआ था। इसके बाद इसे वैज्ञानिक नाम ओलीगोडोन खेरीएन्सिस दिया गया। इस सांप को खुखरी इसलिए भी कहा जाता है क्योंकि इसके दांत गोरखाओं की खुखरी की तरह घुमावदार होते है। कोरल रेड खुकरी के नाम से जाने जाने वाला उक्त खूबसूरत सांप देखने मे कोरल पत्थर के रंग का होता है, यह दीमक की बामी में रहते हैं तथा दीमक एवं दूसरे सांपों के अंडे खाते हैं। यह सांप दिन में कम एवं रात में अपने शिकार के लिए निकलता है। इसका रंग चमकीला नारंगी है।
इसको वाइल्डलाइफ प्रोटक्शन एक्ट 1972 में अधिसूचित करते हुए इसे दुर्लभ श्रेणी में रखा गया है। उत्तराखंड में लगातार तीसरी बार इस दुर्लभ प्रजाति के सांप का मिलना पर्यावरण के लिए शुभ संकेत माना जा रहा है।
इस सांप को रेस्क्यू करने वाली टीम में वन क्षेत्राधिकारी पंकज शर्मा, वन दरोगा कांता राम एवं कई ग्रामीण शामिल रहे।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल