उत्तराखंड : आदमखोर तेंदुए ने 1सप्ताह में तीसरी घटना को दिया अंजाम, अब महिला को उतारा मौत के घाट

ऐजाज हुसैन ब्यूरो चीफ उत्तराखंड

नैनीताल। उत्तराखंड में मानव वन्य जीव संघर्ष थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब नैनीताल जिले के भीमताल विधानसभा के ओखलकांडा ब्लॉक में आदमखोर तेंदुए ने 1 सप्ताह के अंदर 3 परिवार की खुशियों को मातम में बदल दिया। यहां एक के बाद एक लोगों पर जानलेवा हमले की घटना के बाद पूरे इलाके में दहशत का माहौल है और लोग घरों में दुबकने पर मजबूर हो गए हैं। पहले 7वीं की छात्रा नेहा फिर उसके बाद 12वीं की छात्रा को निवाला बनाने के बाद अब तीसरी घटना को अंजाम देते हुए आदमखोर तेंदुऐ ने घास काट रही एक महिला को मौत के घाट उतार दिया इस घटना से लोगों में आक्रोश व्याप्त है।
जानकारी के अनुसार देहना ग्राम सभा की खीमुली देवी पत्नी हरीश सिंह (45वर्ष) अपने आंगन के पास ही खेत में घास काट रही थी तभी घात लगाकर बैठे आदमखोर तेंदुए ने महिला पर हमला बोल दिया। महिला की चीख पुकार सुन ग्रामीणों ने हो-हल्ला मचाया और गुलदार का पीछा किया जिसके बाद गुलजार महिला को जंगल में छोड़ कर भाग गया। एक के बाद एक 5 दिन में तीन घटनाओं की दुखद खबर सुनने के बाद लोगों में वन विभाग की कार्यप्रणाली को लेकर आक्रोश व्याप्त है। वहीं क्षेत्रीय विधायक राम सिंह खेड़ा ने भी वन विभाग के खिलाफ नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा है कि यदि जल्द आदमखोर को मारने के लिए शिकारियों का दल नहीं भेजा गया तो आंदोलन किया जाएगा।
बताते चलें कि इससे पूर्व आदमखोर तेंदुए तुषाराड़ गांव की नेहा, कुकना गांव के बजवाल टोक की 12वीं की छात्रा चंपा को अपना निवाला बना चुका है और आज 45 वर्षीय मूली देवी की मौत की खबर से पूरे क्षेत्र में सदमे का माहौल है और लोगों में दहशत है जिसके चलते ग्रामीण अपने-अपने घरों में कैद होने को मजबूर हैं।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल