एंटी भू माफिया टास्क फोर्स भी अवैध कब्जा मुक्त कराने में नाकाम , योगी सरकार को ठेंगा दिखाते माफिया ।

तहसील संवाददाता [असलम अली ]

उतरौला – योगी सरकार ने जमीनों को कब्जा मुक्त कराने के लिए एंटी भू माफिया ट्रक्स फोर्स का गठन किया लेकिन जिसमें फोर्स जमीन पर नहीं उतर सकी जिला प्रशासन भले ही पूर्व विधायक अनवर हाशमी व शाईद अहमद तथा अन्य का अतिक्रमण के नाम पर कब्जे हटाकर अपनी पीठ थपथपा रहा हो लेकिन रसूखदार लोगों के आगे प्रशासन मौन साबित हो रहा है योगी सरकार का जमीनों को कब्जा मुक्त अभियान में सफल होता नहीं दिख रहा है एंटी भू माफिया टास्क फोर्स के गठन को 2 वर्षों में अधिक का समय बीत गया लेकिन जमीनों पर अवैध कब्जे और निर्माण अभी तक बरकरार हैं सत्ताधारी नेताओं के दम पर सूबेदार भूमाफिया कब्जा जमाए बैठे हैं और जमीनों पर अवैध निर्माण कर रहे हैं जिस पर कार्रवाई करने पर अधिकारियों के हाथ-पांव फूल रहे हैं पीड़ित अब्बास अली ग्राम निवासी बरम भारी जी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ व एसपी डीआईजी को शिकायत पत्र भेजकर भू माफियाओं व प्रशासन के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी भेजे गए पत्र में लिखा था कि ग्रामसभा बरम भारी में एक मेरी दुकान है जिसमें छठी राम ग्राम निवासी छपिया उतरौला का रहने वाला है उसने अवैध तरीके से सहाबुद्दीन पुत्र मुजीबुल्लह ग्राम निवासी ग्राम बरम भारी ने अपने हक की जमीन को 2 लोगों पर बैनामा कर दिया था उसके बाद छठी राम उसके भाई का जमीन मैनुद्दीन व अविवाहित लड़की की जमीन पर कब्जा करना चाहता है प्रशासन को कई बार अवगत कराने पर भी मूलचंद्र एसआई जबरन जबरदस्ती मैनुद्दीन व अविवाहित लड़की की दुकान को कब्जा कराने का 10 दिन का समय दिया है ना ही कोई आदेश है और ना ही उनके पास कोई दस्तावेज इस जमीन पर पहले से ही दीवानी चल रही है मैनुद्दीन वा अब्बास अली के द्वारा दीवानी की गई है उसके बावजूद भी मूलचंद एसआई अवैध तरीके से कब्जा करवाना चाहते हैं भूमाफिया के आधार पर भू माफिया का साथ देकर प्रशासन कब्जा करवाना चाहती है

पुलिस भी इनके साथ है थाने से संबंधित एस आई मूल चंद राम पीड़ित को धमाका रहे है और जमीन पर कोर्ट के बिना किसी आदेश के माफिया को कब्जा दिलाने में जुटे है , इन महाशय का कहना है कि हम ही कानून है और जो हम कहते है वहीं आदेश होता है कोर्ट क्या होता है मै नहीं मानता कोर्ट को

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल