अब सांसों के परीक्षण से एक मिनट में चलेगा पता कोरोना संक्रमण है या नहीं

सिंगापुर के शोधकर्ताओं ने एक सांस परीक्षण विकसित किया है, जो केवल एक मिनट में बता देगा कि उस व्यक्ति को कोरोना संक्रमण है या नहीं। नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर (एनयूएस) के शोधकर्ताओं के अनुसार एक व्यक्ति को बस एक लंबी सांस एक डिस्पोजेबल मुखपत्र में छोड़नी होगी।

यह डिस्पोजल मास स्पेक्ट्रोमीटर से जुड़ा होता है। यह सांस परीक्षण (ब्रीथ टेस्ट) में व्यक्ति की सांस में मौजूद वाष्पशील कार्बनिक यौगिकों (वीओसी) का पता लगाता है।

रोग की 90 फीसदी सटीक पहचान
मशीन लर्निंग सॉफ्टवेयर के जरिए इन यौगिकों का विश्लेषण करने के बाद कोरोना संक्रमण की पुष्टि 90 प्रतिशत से अधिक सटीकता के साथ की जाती है। शोधकर्ताओं ने 180 लोगों पर यह परीक्षण किया है। इस तकनीक को एनयूएस के स्टार्टअप ब्रीथोनिक्स के शोधकर्ताओं ने तैयार किया है।

उनके मुताबिक इस परीक्षण के माध्यम से कोविड-19 संक्रमण की पहचान करने के लिए एक तेज और सुविधाजनक समाधान मुहैया हो सकेगा।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल