परीक्षा से 2 महीने पहले यूपी बोर्ड स्टूडेंट्स को बड़ा तोहफा, पास होने का मिलेगा एक और मौका

लखनऊ
यूपी बोर्ड परीक्षा 2020 शुरू होने से महज दो माह पहले इंटरमीडिएट परीक्षा के स्टूडेंट्स के लिए गुड न्यूज आई है। उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री और सेकेंडरी एजुकेशन मिनिस्टर दिनेश शर्मा ने लखनऊ में मंगलवार को बताया कि यूपी बोर्ड ने फैसला लिया है कि इंटरमीडिएट कक्षा (यूपी बोर्ड 12वीं कक्षा) में फरवरी 2020 से ही कंपार्टमेंट परीक्षा का सिस्टम शुरू होगा। उन्होंने बताया कि वर्तमान में यूपी बोर्ड में सिर्फ 10वीं (हाईस्कूल) के छात्रों को ही कंपार्टमेंट परीक्षा में बैठने की सुविधा मिली हुई है। लेकिन अब फैसला किया गया है कि यूपी बोर्ड 12वीं के स्टूडेंट्स को भी कंपार्टमेंट परीक्षा में बैठने की सुविधा मिलेगी। इस बार 25 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स यूपी बोर्ड 12वीं परीक्षा दे रहे हैं। इन छात्रों को कंपार्टमेंट एग्जाम सिस्टम का फायदा मिलेगा।

जो स्टूडेंट्स पढ़ाई में कमजोर हैं उन्हें कंपार्टमेंट सिस्टम के शुरू होने से काफी फायदा होगा। कुछेक विषयों में फेल होने पर उन्हें पास होने का दोबारा से मौका मिल पाएगा। यूपी बोर्ड जल्द ही कंपार्टमेंट परीक्षा के नियमों की घोषणा करेगा।

इस वर्ष यूपी बोर्ड 12वीं की परीक्षा 18 फरवरी 2020 से 6 मार्च 2020 तक होगी। यूपी बोर्ड इंटरमीडिएट परीक्षा में 25,86,247 स्टूडेंट्स बैठेंगे। इनमें बालक 14,65,844 और बालिकाएं 11,20,403 हैं। पिछले वर्ष यूपी बोर्ड हाईस्कूल (10वीं) का पास प्रतिशत बढ़ा था जबकि यूपी बोर्ड इंटर (12वीं) का पास प्रतिशत में थोड़ी गिरावट आई थी। यूपी बोर्ड 10वीं रिजल्ट 4.91% के इजाफे के साथ 80.07% रहा था। जबकि यूपी बोर्ड 12वीं रिजल्ट 2.37% की गिरावट के साथ 72.43% रहा था।

दिनेश शर्मा ने कहा कि बोर्ड परीक्षा में नकल रोकने और उसे और पारदर्शी बनाने के लिए टेक्नोलॉजी का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल किया जा रहा है। वेबकास्टिंग से परीक्षा हॉल की निगरानी होगी। हर जिले में केंद्रीकृत निगरानी सेल बनेगा।

यूपी बोर्ड 10वीं परीक्षा 2020 और यूपी बोर्ड 12वीं परीक्षा 2020 ( यूपी बोर्ड हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा 2020 ) में इस बार 56 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स बैठेंगे। यूपी बोर्ड की हाईस्कूल एवं इंटर परीक्षा प्रदेश में 7786 केंद्रों पर होगी। इनमें 451 राजकीय, 3401 सहायता प्राप्त माध्यमिक विद्यालय एवं 3934 वित्तविहीन स्कूल हैं। यूपी बोर्ड ने आपत्तियों के निस्तारण के बाद केंद्रों की अंतिम सूची तय समय में जारी कर दी है। 12 नवंबर को जारी प्रारंभिक सूची की तुलना में अंतिम सूची में सिर्फ 15 केंद्र बढ़े हैं।

इस बार आंसर शीट पर लाइन का रंग अलग-अलग होगा। इस वर्ष हुई बोर्ड परीक्षाओं में सभी कॉपियों पर क्रमांक डालने की व्यवस्था की गई है।

15 से 25 मार्च तक सिर्फ दस दिनों में कॉपियों का मूल्यांकन होगा। इसके लिए कॉपी चेक करने वाले अध्यापकों की संख्या बढ़ाई जाएगी। इस बार प्रमाणपत्र व अंकपत्र अंग्रेजी व हिन्दी दो भाषाओं में जारी होगा। हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की ए व बी कॉपियों यानी चारों में लाइन का रंग अलग-अलग होगा।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल