बाघराय प्रतापगढ़ दोतरफा मारपीट में पुलिस द्वारा एकतरफा कार्रवाई

kranti news pratapgarh ( beauro ) :-
बाघराय थानान्तर्गत उमरा पट्टी गाँव के हरिजन-ब्राह्मण परिवारों के बीच 9 दिसम्बर को हुई मारपीट के मामले में ब्राह्मण पक्ष की एफआईआर नहीं हो रही है और एफआईआर कराने गये ब्राह्मण पक्ष के एक 77 साल के बुजुर्ग को दो दिन से थाने में बिठा लिया गया है।

ब्राह्मणों के पक्ष में एक जमीन के मामले में न्यायालय ने फैसला सुनाया था, जिसके आधार उस पक्ष के बुजुर्ग लोग बाउंड्री वाल बना रहे थे। इसी बात को लेकर पड़ोस के हरिजन लड़कों ने ब्राह्मण बुजुर्गों पर हमला कर दिया। आवाज गुहार लगाने पर परिवार के ब्राह्मण लड़कों ने भी मारपीट किया।

ब्राह्मण पक्ष की एफआईआर कराने परिवार के सबसे बुजुर्ग विमल शुक्ला गये थे। पुलिस ने उनकी एफआईआर करना उचित नहीं समझा और उन्हीं को थाने में बिठा लिया है। जबकि हरिजन पक्ष की एफआईआर तुरन्त लिख ली गई। 77 वर्षीय विमल शुक्ला भारतीय सेना में धर्मगुरु (सुबेदार मेजर) के पद से अवकाश ग्रहण कर चुके हैं। उनके लिये अपना शरीर सम्भालना मुश्किल है लेकिन दुर्भावनावश हरिजन पक्ष ने उनका नाम लिखा दिया गया और पुलिस ने बिना पड़ताल किये उन्हें हिरासत में ले रखा है।

उल्लेखनीय है कि ब्राह्मणों के पक्ष में एक जमीन के मामले में न्यायालय ने फैसला सुनाया था, जिसके आधार वे लोग विगत सोमवार को बाउंड्री बना रहे थे। इसी बात को लेकर हरिजन लड़कों ने ब्राह्मण बुजुर्गों पर हमला कर दिया। हल्ला गुहार मचाने पर प्रतिक्रिया में ब्राह्मण लड़कों ने भी मारपीट किया।

ब्राह्मण पक्ष की एफआईआर कराने परिवार के सबसे बुजुर्ग विमल शुक्ला गये थे। उन्ही को पुलिस ने थाने में बिठा लिया है। उनकी एफआईआर नहीं लिखी जा रही है जबकि हरिजन पक्ष की एफआईआर तुरन्त लिख ली गई। विमल शुक्ला भारतीय सेना में धर्मगुरु (सुबेदार मेजर) के पद से अवकाश ग्रहण कर चुके हैं।

ग्रामीण सूत्रों से अभी-अभी सूचना मिली है कि हरिजन पक्ष बीती रात अपने ही पुआल के ढेर में आग लगाकर दूसरा एफआईआर कराने का प्रयास कर रहे हैं।

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल