डॉ सुब्रमण्यम स्वामी ने राज्यसभा हिला दी।

गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा बदलने के विषय पर बोलते हुए उन्होंने कांग्रेसियों की वो हालत कर दी कि मानो कोई चाबुक से पीटकर भभाते और छरछराते घावों पर लाल-लाल तीखी मिर्च छिड़क दे।

गांधी परिवार की सुरक्षा को कथित खतरे के कांग्रेसी आरोपों पर उन्होंने मुंहतोड़ जवाब देते हुए कहा कि इंदिरा गांधी और राजीव गांधी की हत्या की बात का सन्दर्भ देना निरर्थक है क्योंकि ये दोनों सुरक्षा की कमी के कारण नहीं मारे गए थे।

स्वामी ने यह भी स्मरण दिलाया कि राजीव गांधी के हत्यारों की सजा कम करने की संस्तुति तो खुद सोनिया गांधी ने की और प्रियंका गांधी उनसे मिलने जेल भी गईं जबकि कारागार नियमावली के अनुसार केवल “रिश्तेदार” ही कैदियों से मिल सकते हैं। और अब तो लिट्टे अस्तित्व में ही नहीं है, फिर काहें का खतरा? डॉ स्वामी के अनुसार “यदि खतरे की बात इस्लामी आतंकी संगठनों के सन्दर्भ में की जा रही है तो आतंकियों से भी गांधी परिवार को कोई खतरा नहीं क्योंकि ये लोग तो पहले से ही भयंकर “सेकुलर” हैं।” 😉

सबसे मारक वाक्य स्वामी जी ने अंत में बोला कि “हम तो चाहते हैं कि गांधी परिवार सुरक्षित और जीवित रहे क्योंकि हम इन्हें एक दिन जेल जाते हुए देखना चाहते हैं।”

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल