उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की नगर प्रमुख संयुक्ता भाटिया जी से जनहित में गुहार!!

kranti news lucknow , beauro sanjay azad :-

कुछ तो शर्म करो बेशर्मों!! ;

नगर निगम प्रशासन के सरकारी काले धन कुबेरों के पास 3-4 सालों से बदहाल पड़े छोटे से नाले की मरम्मत के वास्ते फूटी कौड़ी नहीं बची, भिखारी बन चुकी है भ्रष्ट नौकरशाही!!!

मेयर साहिबा! क्या आपको जरा सा भी अहसास है कि आपकी नाक के नीचे गलियों-मोहल्लों के अनगिनत नाले-नालियां अपनी बदहाली पर न जाने कब से आंसूओं के बीच अपनी किस्मत पर बेतहाशा मुंह बाय नंगे पड़े हैं ❓❓❓

जी हां, डंके की चोट पर आपके नगर निगम प्रशासन की कारगुजारियों का भण्डाफोड़ काफी दिनों पहले आपके व्हाट्सएप पर ये सोंच कर किया था कि शायद आप अपने परिवारजनों यानि निगम की काली करतूतों पर पाबंदी लगाते हुए जनहित से जुड़ी समस्याओं को अपनी समस्या समझेंगी।

किन्तु लेकिन परन्तु…. अफसोस कि आपने भी आखिरकार इस दिशा में ध्यान देने की जरा सी भी जरूरत महसूस नहीं की , जिसका खामियाजा राजधानी लखनऊ का बच्चा-बच्चा भुगतने को मजबूर हो गया है। ऐसा लगता है कि अपने आप पर शर्मिंदगी का अहसास जितनी लखनऊ की जनता करती होगी उतना शायद आपने नहीं किया होगा। पुनः बताते चलें कि स्थानीय मनकामेश्वर मंदिर वार्ड के अन्तर्गत कुतुबपुर मोहल्ले में गोकरनाथ रोड चौराहे पर लगभग 3-4 सालों से छोटे से नाले की मरम्मत और उसकी सफाई के लिए आपके नगर निगम प्रशासन के सरकारी मुखिया और उनके नीचे बैठे जोन- 3 के उप मुखिया के पास इतना बजट नहीं है कि वो करीब 500/- रूपये का काम करवाकर जनता को राहत पहुंचा सकें।

बेशक निसंदेह पुख्ता तौर पर इन चोर डकैत लुटेरे भ्रष्टाचारियों की फौज ने राजधानी की जनता का जीना हराम करके रख दिया है।

मुख्यमंत्री जन सुनवाई पोर्टल से लेकर नगर निगम कंट्रोल रूम सहित इन कामचोर नौकरशाहों के यहां तमाम शिकायतें दर्ज कराने के बावजूद जब आम जनमानस की सुनवाई नहीं होती है तब आम जनता में विद्रोह की आग 🔥धधकना स्वाभाविक है।

इन कालेधन कुबेरों पर लगाम लगेगी भी या यूं ही जुमलेबाजी में दिन काटे जायेंगे ❓❓❓

जवाब तो बनता है न मेयर साहिबा!!!

अरे कुछ तो शर्म करो भ्रष्टाचारियों….

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल