प्रभारी की निष्क्रियता से बदहाल हो गई जिले की यातायात व्यवस्था

रंग-बिरंगे कागजो को समेटने में व्यस्त हुए यातायात के जवान,बैसाखी का सहारा देकर चलते बने अर्मो साहब

अनोखी आवाज़ न्यूज़ सिंगरौली। एक समय में यातायात पुलिस की सख्ती एवं सक्रियता से जहां शहर की व्यवस्था पटरी पर आने लगी थी। वहीं वर्तमान यातायात प्रभारी के निष्क्रियता के चलते शहर की यातायात व्यवस्था फिर से बे-पटरी होने लगी। कुछ महीनो पूर्व सूबेदार दिलीप तिवारी द्वारा किए जाने वाले सार्थक प्रयासों से शहर की यातायात व्यवस्था पटरी आने लगी थी। लेकिन जैसे ही यातायात थाने की कमान आर.एन. आर्मो के हाँथ गई तब से मानो शहर की यातायात व्यवस्था पर ग्रहण लग गया हो चारों तरफ टेढ़े-मेढे वाहन की कतारें व जाम का नजारा बना हुआ है।

रंग बिरंगे कागजों को समेटने में व्यस्त सफेद वर्दी,बदहाली का कौन जिम्मेदार..?

जिले की यातायात व्यवस्था पर मानो ग्रहण लग गया है। नवगात एसपी अभिजीत रंजन ने भी पद संभालते ही मीडिया से मुखातिब होते हुए यातायात व्यवस्था को सुधांरने का आश्वासन दिया था। लेकिन समय बीतता गया बात भी हवा हो गई। इस बदहाली का जिम्मेदार किसे ठहराया जाए…? खैर जिसके हाँथ में कमान थी वो व्यवस्था तो नही सुधार नही पाये। सूत्रों की माने तो यातायात के जवानों का काम से ज्यादा वसूली अभियान में मन लगने लगा है। वही ट्रैक्टर चालक के जुवानों में दो-चार जवानों का नाम काफी चर्चा में बना हुआ है।

चौराहे से नदारद रहती हैं सफेद वर्दी

अचानक यातायात व्यवस्था को ग्रहण लगने की वजह क्या है..? ये बात विभागीय लोग ही बता सकते है,लेकिन नए यातायात प्रभारी के पदभार ग्रहण करने के बाद से यातायात पुलिस की सक्रियता निष्क्रियता में बदल गई और तो और शहर के चौराहे से भी यातायात पुलिस के जवान नदारत रहते हैं। आलम यह है की पॉइंट,चौराहों पर जाम

Translate »
क्रान्ति न्यूज - भ्रष्टाचार के खिलाफ क्रांति की मशाल